Apr 29, 2016

हरिशंकर परसाई [Harishankar Parsai]

जीवन परिचय 

जन्म:- हरिशंकर परसाई का जन्म जामनी गाँव, जिला होशंगाबाद मध्य प्रदेश में सन् 1922 में हुआ था | उन्होंने नागपुर विश्वविधालय से हिन्दी में एम.ए. किया | कुछ सालो तक अध्यापन-कार्य करने के बाद सन् 1947 से वे स्वतंत्र लेखन में जुट गए | उन्होंने जबलपुर से ‘वासुधा’ नामक सहित्यिक पत्रिका निकली |


निधन:-  इनकी मृत्यु 1995 में हुआ |

रचनाएँ:- हरिशंकर परसाई ने दो दर्ज़न से भी अधिक पुस्तकों की रचना की है | इनकी रचनाए निम्न है – ‘हँसते है राते है’, ‘जैसे उनके दिन फिरे’ (कहानी संग्रह); ‘रानी नागफनी की कहानी’, ‘पाखंडियो का जमाना’, ‘भुत के पांव पीछे’, ‘सदाचार की तावीज’, ‘शिकायते मुझे भी है’, ‘और अंत में’ (निबंध संग्रह) | ‘वैष्णव की फिसलन’, ‘तिरछी रेखाएँ’, ‘ठिठुरता हुआ गणतंत्र’, ‘विकलांग श्रद्ध का दौर’, (व्यंग लेख संग्रह) | उनका संग्रह सहित्य ‘परसाई रचनावली’ के रूप में छः हिस्सों में प्रकाशित है |

सहित्यिक विशेषताएँ:- परसाई ने व्यंग-विधा को सहितियक प्रतिष्ठा प्रदान की | उनके व्यंग लेखको की विशेषता यह है की वे समाज में आई विसंगतियों, विडंबनाओं पर करारी चोट करते हुए चिंतन तथा कर्म की प्रेरणा देते है | उनके व्यंग पाठक को गुदगुदाते हुए झकझोर देने में साक्षम हैं |


भाषा:- भाषा प्रयोग में परसाई को असाधारण कुशलता हासिल है | वे आम तोर पे बोलचाल के शब्दों का प्रयोग सतर्कता से करते हैं | कौन-सा शब्द कब और कैसा प्रभाव उत्पन्न करेगा इसे वे अच्छी तरह जानते थे | इनकी भाषा में मुहावरे तथा विदेशी शब्द का भी प्रयोग बखूबी होती है | इनके वाक्य अन्दर तक भेदते हैं |         

SHARE THIS

Author:

हेल्लो दोस्तों मैं हारून, इस ब्लॉग Hindiarticles.com का founder(Owner) हूँ. आप सभी के सहयोग से हमारा यह ब्लॉग, हिन्दी और हिंगलिश भाषा में blogging, digital marketing, internet की जानकारी, क्या-कैसे, computer से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करतें है|