Feb 2, 2019

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत होम लोन सब्सिडी कैसे प्राप्त करें

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत होम लोन सब्सिडी कैसे प्राप्त करें

प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) सरकार द्वारा जारी की गई एक पहल है जो पहली बार घर खरीदने वालों के लिए कई लाभ लेकर आई है। होम लोन के ब्याज पर सब्सिडी एक प्रमुख लाभ है जो पीएमएवाई आपको प्रदान करता हैं। यदि आप अपनी आय के अनुसार प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए आवेदन करते हैं और योजना द्वारा निर्धारित कारपेट एरिया के मानदंडों को पूरा करने वाला घर खरीदते है, तो आप पात्रता के आधार पर होम लोन पर सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं।

क्या आप प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए पात्र हैं इसकी जाँच करें

PMAY लाभों और अनुदान तक पहुंचने के लिए, आपको या तो अविवाहित व्यक्ति के रूप में या परिवार की एक इकाई के प्रतिनिधि के रूप में आवेदन करना होगा जिसमें आपके माता-पिता, पति या पत्नी और अविवाहित बच्चे शामिल हैं। इन मूल पात्रता बिंदुओं के अलावा, आपको अपने होम लोन पर सब्सिडी का दावा करने के लिए कुछ आय मानदंडों और अन्य प्रधानमंत्री आवास योजना पात्रता मानदंडों का पालन भी करना होगा। नीचे दिए गए इन मानदंडों को पढ़ें:
  • आप या आपका परिवार पक्के घर के मालिक नहीं हो सकते। एक मौजूदा मकान के मालिक होने पर आप PMAY के तहत होम लोन के लिए आवेदन करने के लिए अयोग्य घोषित जाते हैं।
  • आपने या आपके परिवार ने अतीत में किसी अन्य सरकारी आवास योजना की सुविधाओं का लाभ नहीं उठाया होना चाहिए।
  • प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपके पास आधार कार्ड होना आवश्यक है।
  • ईडब्ल्यूएस (EWS) श्रेणी के तहत PMAY के लिए पात्र होने के लिए, आपकी वार्षिक घरेलू आय 3 लाख रुपये से कम होनी चाहिए। 
  • एलआईजी (LIG) श्रेणी के तहत PMAY के लिए पात्र होने के लिए, आपकी संयुक्त वार्षिक घरेलू आय 3 लाख से 6 लाख रुपयों के बीच होनी चाहिए।
  • MIG-I आवेदक के रूप में अर्हता प्राप्त करने के लिए, आपकी वार्षिक घरेलू आय 6 लाख से 12 लाख रुपयों के बीच होनी चाहिए।
  • MIG-II आवेदक के रूप में अर्हता प्राप्त करने के लिए, आपकी वार्षिक घरेलू आय 18 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए।
प्रधानमंत्री आवास योजना

आप अधिकतम कितने अनुदान दावा कर सकते हैं?

आप प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अपने होम लोन पर 2.67 लाख रुपयों तक के अनुदान का आनंद ले सकते हैं। आपके द्वारा दावा की जाने वाले अनुदान का प्रतिशत, आप जिस आय श्रेणी में से आते हैं और आपके द्वारा खरीदे गए घर के कुल कार्पेट एरिया पर निर्भर करता है। आपको निम्नलिखित पता होना चाहिए।
  • यदि आप ईडब्ल्यूएस (EWS) या एलआईजी (LIG) श्रेणी के अंतर्गत आते हैं, तो आप 6 लाख रुपयों तक के होम लोन पर 6.5% का क्रेडिट-लिंक्ड अनुदान का दावा कर सकते हैं। यदि आप EWS श्रेणी के तहत आवेदन करते हैं तो आपके द्वारा खरीदा गए घर का कार्पेट एरिया 30 sq. mt. होना चाहिए। यदि आप LIG श्रेणी के तहत आवेदन करते हैं तो आपके द्वारा खरीदा गए घर का कार्पेट एरिया 60 sq. mt. होना चाहिए।
  • MIG I श्रेणी के तहत, आप 9 लाख रुपयों तक के होम लोन पर क्रेडिट-लिंक्ड सब्सिडी का दावा कर सकते हैं। आप इस सब्सिडी का दावा कर सकते हैं यदि आप जो घर खरीदते हैं, उसका कार्पेट एरिया 160 sq. mt. है।
  • MIG II श्रेणी के तहत, आप 12 लाख रुपयों तक के होम लोन पर क्रेडिट-लिंक्ड अनुदान का दावा कर सकते हैं। आप इस अनुदान का दावा कर सकते हैं यदि आपके द्वारा खरीदा गया घर का कार्पेट एरिया 200 sq. mt. है।
लोन राशि की कोई सीमा नहीं है, हालांकि ब्याज अनुदान की गणना EWS/ LIG के लिए 6 लाख रुपये, MIG I श्रेणी के 9 लाख रुपये और MIG II श्रेणी के लिए 12 लाख रुपये अधिकतम पर की जाएगी।
MIG I और MIG II श्रेणी के कार्पेट एरिया को हाल ही में संशोधित किया गया है। यह संशोधित शासनादेश आपको अनुदान पर एक बड़ा घर खरीदने की अनुमति देता है। हालाँकि, आपको याद रखने वाली महत्वपूर्ण बात यह है कि PMAY अनुदान अधिकतम 20 वर्षों के कार्यकाल के लिए लागू है।
आप अपने होम लोन पर अनुदान का उपयोग नवीकरण और निर्माण प्रयोजनों के लिए कर सकते हैं। यहाँ एकमात्र अपवाद MIG I और MIG II आवेदक हैं। इन दो आय श्रेणियों के प्रतिनिधि के रूप में, आप घर खरीदने के अलावा और कुछ भी करने के लिए अपने होम लोन के पैसे का उपयोग नहीं कर सकते हैं। इसके अलावा, PMAY-G (ग्रामीण) सेगमेंट के तहत, आप अपने होम लोन पर रु 3 लाख तक के क्रेडिट-लिंक्ड अनुदान का दावा कर सकते हैं।
तो, मान लीजिए कि आप 9% ब्याज दर पर 12 लाख रुपये का होम लोन लेते हैं। तब आपकी ईएमआई 17,995 रुपये होगी और 20 वर्षों के लिए आपकी कुल ब्याज लागत 23.19 लाख तक आ जाएगी। अब, आप 3% क्रेडिट-लिंक्ड अनुदान के लिए पात्र हैं, जो 2,30,156 रुपयों तक आता है। जब यह अनुदान राशि आपकी लोन राशि से काट ली जाती है, तो संशोधित लोन राशि 9,69,844 रुपये होगी।

Jan 27, 2019

अपने खराब क्रेडिट स्कोर को सुधारने के लिए 5 टिप्स

अपने खराब क्रेडिट स्कोर को सुधारने के लिए 5 टिप्स

क्रेडिट स्कोर एक तीन अंकों की संख्या होता है जिसके आधार पर कोई भी बैंक आपको कर्ज़ या क्रेडिट कार्ड प्रदान करता है। क्रेडिट स्कोर को सिबिल (CIBIL) स्कोर भी कहा जाता है क्योंकि इसे CIBIL (Credit Information Bureau India Limited) नामक एक संस्था प्रदान कराती है। Credit score सामान्यतः 300 से लेकर 900 की संख्या तक का होता है। आपका क्रेडिट स्कोर जितना ज्यादा होगा, आपको बैंक से loan और Credit Card मिलने की सम्भावनायें उतनी ही बढ़ जाएंगी। यदि आपका क्रेडिट स्कोर 750 या उससे अधिक है तो आपको ज्यादा ऋण भी मिल सकता है। ध्यान रहे, जितना अच्छा क्रेडिट स्कोर होगा, ऋण उतना ही ज्यादा और आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।

कैसे तय होता है आपका Credit Score:


यदि आप कोई क्रेडिट कार्ड लेते हैं या बैंक से कोई ऋण लेते हैं तो तो उसके ई एम आई (EMI) या ब्याज़ के भुगतान का एक समय निश्चित किया जाता है। कर्ज़दार या क्रेडिट कार्ड धारक अपना ब्याज चुकाने में जो समय लेता है उसी समय सीमा के आधार पर आपका क्रेडिट स्कोर तय किया जाता है। वह बैंक या कंपनी जिससे आप क्रेडिट कार्ड लेते हैं या ऋण लेते हैं, वह आपकी जानकारी सिबिल कंपनी को सौंप देते हैं जिसके आधार पर आपका क्रेडिट रिपोर्ट बनाया जाता है और क्रेडिट स्कोर तय किया जाता है। आपका क्रेडिट स्कोर आपकी पिछली 24 माह की क्रेडिट हिस्ट्री को आधार बनाकर तय किया जाता है।

5 Tips to Improve Your Bad Credit Score
5 Tips to Improve Your Bad Credit Score


यदि आप अपना क्रेडिट स्कोर जानना चाहते हैं और क्रेडिट रिपोर्ट बनवाना चाहते हैं तो आप सिबिल संस्था की वेबसाइट cibil.com पर जा कर इसके लिए फॉर्म भर सकते हैं। ध्यान रखिये की इस फॉर्म के लिए आपको कुछ शुल्क भी देना होगा। इस form में पूछी गयी जानकारी को भरें तथा submit कर दें। आपका क्रेडिट रिपोर्ट आपकी Email ID पर भेज दिया जाएगा और आपका क्रेडिट स्कोर भी बता दिया जाएगा।

CIBIL संस्था आपका Credit Score कैसे बनाती है ?

क्रेडिट स्कोर के निर्माण में कई चीज़ों का अपना अपना योगदान होता है, जैसे वक्त पर ऋण अदा करना, सिक्योर्ड या अनसिक्योर्ड ऋण लेना, ऋण का इस्तेमाल करना और क्रेडिट एक्सपोज़र। इन सबकी जानकारी के आधार पर CIBIL संस्था आपका क्रेडिट स्कोर बनाती है।

क्रेडिट स्कोर खराब होने के मुख्य कारण:

आपका क्रेडिट स्कोर यदि खराब है (kharab in english is what we say bad) और आपको loan मिलने में दिक्कत हो रही है तो इसके पीछे निम्नलिखित कारण हो सकते हैं:

1. यदि आपने ब्याज़ या EMI भुगतान बैंक द्वारा निर्धारित समय सीमा के अंदर नहीं किया है।

2. ब्याज़ का भुगतान करने में आपने निश्चित की गयी अवधि से बहुत अधिक समय ले लिया हो।

3. आप EMI या ब्याज़ का भुगतान करने में असमर्थ रहे हों।

4. बैंक या कंपनी, जिसने आपको ऋण दिया है या क्रेडिट कार्ड उपलब्ध कराया है, उन्होंने CIBIL संस्था को आपकी गलत जानकारी भेजी हो; बावजूद इसके की आप समय सीमा के अंदर ही अपना भुगतान पूरा कर चुके हों।

जब बैंक आपके लेन देन, ऋण एवं बैंक account की जानकारी CIBIL कंपनी को भेजता है, तब उसमें गलतियाँ  होना आम बात है। यह इस वजह से हो सकता है की आप ने तो अपना ऋण चूका दिया हो, परन्तु बैंक ने अभी तक आपके खाते में बकाया लिखा हो।

अपना Kharab क्रेडिट स्कोर कैसे सुधारें?

आपका क्रेडिट स्कोर खराब होने के कारण आपको बैंक द्वारा ऋण मिलने में कठिनाई तो होती ही है परन्तु साथ ही क्रेडिट कार्ड को प्राप्त करना भी मुश्किल हो जाता है। क्रेडिट स्कोर या सिबिल स्कोर जितना kharab होगा, उसे सुधरने में उतना ही वक़्त लगेगा। यदि आप अपना क्रेडिट स्कोर सुधारना चाहते हैं तो नीचे दिए गए टिप्स को फॉलो करें और अच्छे परिणाम आने की प्रतीक्षा करें।

1. अपने पुराने क्रेडिट कार्ड के ब्याज़ एवं मासिक शुल्क का भुगतान समय पर या समय से पहले करें। समय से पहले या समय पर ब्याज का भुगतान करने से आपके क्रेडिट स्कोर के सुधरने के chances बढ़ जाते हैं।

2. अपने लोन की EMI का भुगतान भी समय सीमा के रहते ही कर दें। क्रेडिट स्कोर में सुधारे लाने के लिए ये आवश्यक है की आप समय सीमा के भीतर ही अपना EMI चुका दें और यदि हो सके तो समय से पहले ही भुगतान कर दें।

3. आप हमेशा सिक्योर्ड loan को ही प्राथमिकता दें तथा अनसिक्योर्ड लोन कभी न लें।

4. बैंक के द्वारा गलत जानकारी भेजे जाने पर आप बैंक के नोडल अधिकारी के पास लिखित में अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। साथ ही आप CIBIL संस्था की website पर जाकर एक Dispute Request Form भरकर वहां अपना पक्ष रख सकते हैं। सामान्यतः इस प्रक्रिया में और आपकी सही जानकारी अपडेट होने में एक माह का समय लग जाता है।

5. यदि एक माह बाद भी आपकी जानकारी ठीक नहीं की गयी है या आपका credit स्कोर अभी भी कम दिखाया जा रहा है तो आप RBI के लोक पाल वेबसाइट पर जा कर शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

यदि आपका क्रेडिट स्कोर आपके द्वारा समय पर ब्याज़ का भुगतान न करने के कारण है तो टिप्स नंबर 1, 2, और 3 का उपयोग करें। और यदि आप अपने क्रेडिट कार्ड का भुगतान समय पर कर देते हैं और यदि आपने अपना लोन भी समय सीमा से पहले पूरा चुका दिया है, परन्तु बैंक के द्वारा गलत जानकारी भेजे जाने के कारण CIBIL संस्था में आपका क्रेडिट स्कोर kharab हो गया है तो टिप्स नंबर 4 और 5 का उपयोग करें।

इन सब के अलावा यदि आप दूसरी बातों पर भी ध्यान दें तो आपका क्रेडिट स्कोर काफी सुधर सकता है। जैसे अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट और बकाया राशि को सामान्यतः कम ही ऱखे। क्रेडिट कार्ड पर अधिक मात्रा में लोन न लें। कभी भी अपना क्रेडिट कार्ड अकाउंट बंद न करें। अपना CIBIL रिपोर्ट और क्रेडिट स्कोर समय समय पर देखते रहे और जैसे ही कोई दिक्कत सामने आए तो उस पर तुरंत कार्य करें।

उपरोक्त दिए गए Tips को follow करने से आपके क्रेडिट स्कोर में सुधार अवश्य होगा। यदि आप चाहते हैं की आपका क्रेडिट स्कोर में और भी जल्दी से सुधार हो तो इसके लिए आप किसी Finance या Bank एक्सपर्ट से सलाह ले सकते हैं।

Jan 1, 2019

असफल व्यक्ति का प्रेम-The Love of Failed Person

असफल व्यक्ति का प्रेम-The Love of Failed Person

असफल व्यक्ति का प्रेम और असफल व्यक्ति का सही अर्थ। :- प्रेम की बात करे इससे पहले हम असफ़ल व्यक्ति को जान ले | कौन होता हे असफ़ल व्यक्ति ? समाज में इसको कुछ नाम दिए हे जेसे :- निकम्मा, निठल्ला, नाकारा, आवारा, पर वास्तव में इन शब्दों से असफ़ल व्यक्ति का दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं हे। असफ़ल व्यक्ति वो होता हे जिसने प्रयास किये हो पर असफ़ल रहा हो। क्षेत्रवाद, वर्गवाद ज्ञान, राजनीती और मोलिक सिद्धान्तो के कारण या जिसके काम को स्वीकारा नहीं जाता हो, जिसके काम को पहचान न मिली हो, या जिसकी आय, व्यय से कम हो | मतलब आर्थिक तोर पर पूर्ण सफल न हो ऐसा व्यक्ति असफ़ल कहलाता हे।

asafal wyakti ka prem Hindi literature


अब बात आती हे ऐसे व्यक्ति के प्रेम की या, विवाह की, और उसकी पसंद-नपसंद की | ऐसा व्यक्ति जब भी प्रेम करता हे या विवाह प्रस्ताव रखता हे तो उसकी पसंद-ना-पसंद कोई मायने नहीं रखती समाज या दुसरे पक्ष के सामने और यदि शारीरिक सुन्दरता नहीं हो तो “ सोने पे सुहागा ” “ जलती आग में घी डालना ” जेसा यही से खेल शुरू होता हे समझोते का कुछ लोग इसको स्वीकार कर जीवन भर इस बोझ को ढोते और सामान्य कहलाते हे |

और कुछ इसका विरोध कर इसको ताकत बनाकर जीवन को दुसरे विषय में लगा कर महानायक बन जाते हे | और कुछ क्रोध प्रतिशोध में खलनायक बन जाते हे | तीनो ही सूरतो में न प्रेम सफल हुआ न तुलना, जिस उद्देश्य के लिये दो लोग मिले थे न वो पूरा हुआ | संबंध कोई भी हो तुलना और बारबरी जरुरी हे | दोनों पक्षों की पसंद नपसंद भी जरुरी हे | धन और सामाजिक स्तर भी जरुरी हे | पर तुलना केवल बिना जाने समझे धन और किताबी ज्ञान के आधार पर हो | अपनी कमी और आवश्कताओं को जाने बगेर हो ये उचित नहीं हे |

क्योकि हमें इस बात को समझ न होगा की वक्त कभी भी किसी का बदल सकता हे | और तन, मन, आयु की एक सीमा हे | धनी हो या निर्धन प्रेम, साथ, वफ़ादारी की दोनों को ही आवश्कता हे | और यदि ये हमें स्वीकार नहीं हे तो हम अकेले ही रहे | या फिर अपने जीवन की भूमिका पहले से ही तय कर ले की हमें दोलत चाहिए या सुन्दरता या भोतिक सुख, फिर हमें प्रेम समर्पण वफ़ादारी को भूल जाना चाहिए | किसी को सब मिल जाये वो उसका नसीब हे | और सात जन्मों का साथ, मन से मन का मिलन, इन बातो को विचारो को किताबो से हटा देना चाहिए |

क्योकि यदि जीवन क्रय विक्रय बन जाये तो फिर भावनाओ का क्या काम | व्यापार में माल की गुणवता और माग ही उसकी कीमत तय करती हे | और व्यवहारिक जीवन में सफल व्यक्ति की तुलना में असफल व्यक्ति का प्रेम देखे तो वो ज्यादा सार्थक और सटीक हे सच्चा हे | कियोकी उसके पास केवल उसका प्रेम ही हे प्रेम करने को और वही उसके जीवन का आधार भी हे कियोकी उसके संघर्षो में वही उसकी प्रेरणा भी था और उपलब्धि भी | और इसके विपरीत सफल व्यक्ति के पास प्रेम और गर्व करने को उसका नाम, ज्ञान, ताकत, दोलत, शोहरत, सबकुछ हे | और प्रेम केवल जीवन की एक उपलब्धि या आवश्कता हे |

निष्कर्ष :- अपवाद हो सकते हे एवं लेख में व्यक्ति शब्द पुरुष प्रधान हे पर इसमे लिखी बाते लड़का हो या लड़की स्त्री या पुरुष दोनों पक्षों को समान रखते हुए लिखी गई हे |
प्रसिद्ध साहित्यकार - मुंशी प्रेमचंद की जीवनी (Munsi Premchand)

प्रसिद्ध साहित्यकार - मुंशी प्रेमचंद की जीवनी (Munsi Premchand)

sahitya kar munsi, munsi premchand, hindi me premchand
मुंशी प्रेमचंद की जीवनी

मुंशी प्रेमचंद की जीवनी (Munsi Premchand)

#विषय जानकारियाँ 
1.नाम मुंशी प्रेमचंद 
2.पूरा नामधनपत राय श्रीवास्तव
3.जन्म और स्थल 31 जुलाई 1880 वाराणसी, निकट लमही गाँव 
4.भाषा हिंदी, उर्दू 
5.शिक्षा का आरंभउर्दू, फ़ारसी। 
6.प्रमुख रचनाएँ गोदान, कर्मभूमि, रंगभूमि, सेवासदन
7.कार्य क्षेत्र अध्यापक, लेखक, पत्रकार, 
8.माता का नामआनन्दी देवी
9.पिता का नाम मुंशी अजायबराय
10मृत्यु8,अक्टूबर 1936 .

मुंशी प्रेमचंद का जन्म वाराणसी जिले के लमही गाँव में सन् 1880 में हुआ। उनका मूल नाम धनपत राय श्रीवास्तव था। उनके पिता डाकखाने में एक नौकरी करते थे। उनकी माँ बचपन में ही चल बसी इसलिए उनका बचपन घोर संकटों में बीता। उनके पिता ने फिर दूसरी शादी भी की। और जब प्रेमचंद की उम्र लगभग 15 साल थी तभी उनके पिता जी का भी देहांत हो गया।

मुंशी प्रेमचंद ने भी अपने जीवन में दो  शादियाँ की। पहली शादी उनके सौतेले नाना ने करवाई। उनकी पहली पत्नी विवाद के कारण उन्हें छोड़कर चली गयी। फिर काफी समय बाद उन्होंने दूसरी शादी एक विधवा औरत के साथ की। जिसका नाम शिवरानी देवी था।

उन्होंने प्रारम्भिक शिक्षा वाराणसी में ग्रहण की। बचपन में एक मौलाना से उर्दू और फ़ारसी का ज्ञान लिया।  मेट्रिक करने के बाद वे आध्यापन कार्य करने लगे। फिर उन्होंने स्वाध्याय करके बी.ए. की परीक्षा उत्तीर्ण की। वे सरकारी नौकरी में भी रहे। वे महात्मा गांधी जी से बहुत प्रभावित थे। इसीलिए असहयोग आन्दोलन के समय नौकरी से त्यागपत्र  दे दिया।

लेखन कार्य में तो वे लगभग 13 वर्ष की उम्र से ही सक्रिय रहे। प्रेमचंद ने अपना लेखन कार्य उर्दू में नबाबराय नाम से आरम्भ किया, बाद में वे हिन्दी में लिखने लगे। उनकी पहली कहानी सन् 1915 में ‘सरस्वती’ पत्रिका में प्रकाशित हुई।

मृत्यु - सन् 1936 में प्रेमचंद जी बीमार रहने लगे और उनकी मृत्यु हो गयी।

प्रेमचंद का रचनात्मक और संपादन कार्य। 

कहानी संग्रह - उनके जीवन काल में उनकी कहानियाँ विभिन्न संग्रहों के नामों से छपी। उनके मरने के बाद आंकी सभी कहानियों को मानसरोवर (आठों भागो में) संग्रह के नाम से आठ भागों में प्रकाशित कर दिया गया।
उनका सबसे पहले प्रकाशित होने वाला कहानी संग्रह वतन था। जिसका नाम था - सोजे वतन। सोजे वतन का हिंदी में मतलब होता है - राष्ट्र का विलाप या देश का दर्द। इस कहानी संग्रह ने उसे ज़माने में खूब धूम मचाई थी। क्योंकि यह संग्रह देशभक्ति की कहानियों का संग्रह था।

इस कहानी संग्रह का अंग्रेजी शासन पर इतना प्रभाव पड़ा कि उन्हें इस पर रोक लगानी पडी। और साथ में प्रेमचंद जी को न लिखने के लिए कहा। इसी घटना के बाद से प्रेमचंद जी ने अपना नाम नवाबराय से बदलकर हमेशा के लिए प्रेमचंद कर लिया।

उपन्यास - सेवासदन, कर्मभूमि, रंगभूमि, निर्मला, गबन, गोदान, प्रेमाश्रम।
गोदान उनका सबसे ज्यादा प्रसिद्ध उपन्यास है।
नाटक - कर्बला, संग्राम, प्रेम की देवी।
निबंध या लेख संग्रह - विविध प्रसंग (तीन भागों में), कुछ विचार।
संपादन कार्य - माधुरी, हंस, मर्यादा, जागरण।

शिल्पगत विशेषताएँ

प्रेमचंद ने अपनी रचनाओं में किसानों, दलितों एवं नारियों की वेदना तथा वर्ण-व्यवस्था की कुरीतियों का मानवीय चित्रण किया है। वे साहित्य को सामाजिक परिवर्तन का सशक्त साधन मानते थे। उनकी दृष्टि में साहित्यकार समाज के भवन को गिरता नहीं है बल्कि उसका निर्माण करता है। उन्होंने समाज-सुधार और राष्ट्रीय भावना को अपनी रचनाओं में स्थान दिया। कथा-संगठन एवं चरित्र-चित्रण की दृष्टि से उनकी रचनाएँ बेजोड़ हैं।

भाषा

प्रेमचंद की रचनाओं की भाषा सजीव, मुहावरेदार और बोलचाल वाली है। इसमें उर्दू की स्वच्छता, गति और मुहावरे से साथ संस्कृत भावमयी पदावली का भी सुन्दर प्रयोग है। प्रेमचंद ने अपनी कहानियों और उपन्यासों से हिंदी को लोकप्रिय बनाया।

हिंदी में बाल-मनोविज्ञान से सम्बंधित कहानियाँ बहुत कम लिखी गयी है। प्रेमचंद उन दुर्लभ कथाकारों में से हैं जिन्होंने पूरी प्रमाणिकता तथा तन्मयता से साथ बाल-जीवन को अपनी कहानियों में स्थान दिया। उनकी सम्पूर्ण साहित्य भारत की साझी संस्कृति व ग्रामीण जीवन के विविध रंगों से भरा पड़ा हैं।

मुंशी प्रेमचंद के जीवन पर आधारित कार्यकर्म । 

यह कार्यक्रम उपन्यास सम्राट प्रेमचंद्र के जीवन पर आधारित है। (कथा सम्राट-प्रेमचंद  Duration 25 min)

यह कार्यक्रम  हिंदी और उर्दू के उपन्यास लेखक, कहानी लेखक और नाटककार मुंशी प्रेमचंद के जीवन पर आधारित है। (प्रेमचंद का बचपन और बच्चों की कहानियाँ  Duration 25 min) 
जानें कैसे छोटे व्यवसायियों को NBFC से बिजनेस लोन लेना है बेहद आसान |

जानें कैसे छोटे व्यवसायियों को NBFC से बिजनेस लोन लेना है बेहद आसान |

छोटे व्यवसायियों को अपने बिजनेस के विस्तार के लिए तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में छोटे व्यवसायियों के लिए बिजनेस लोन एक संजीवनी बूटी की तरह होता है। इसी बिजनेस लोन को पाने के लिए छोटे व्यापारी काफी परेशान रहते हैं। जो सबसे बड़ी समस्या छोटे व्यापारियों को झेलनी पड़ती है, वो है कि बिजनेस लोन के लिए बैंको का चक्कर लगाना। छोटे व्यापारियों के लिए बैंको से लोन के लिए चक्कर लगाने से अच्छा है, NBFC से बिजनेस लोन लेना। NBFC से बिजनेस लोन के लिए आपको मात्र एक बिजनेस लोन Application form भरना होता है। जिसके बाद सामान्यतया एक हफ्ते के भीतर ही बिजनेस लोन मिल जाता है।
BNFC business loan Hindi articles
जानें कैसे छोटे व्यवसायियों को NBFC से बिजनेस लोन लेना बेहद आसान |

NBFC क्या है-

NBFC उन कंपनियों को कहते हैं जो कंपनी अधिनियम, 1956 के अंतर्गत पंजीकृत हो। NBFC का मुख्य कारोबार उधार देना, विभिन्न प्रकार के share/stock/bonds, पट्टा कारोबार, hire purchase, बीमा कारोबार, चिट संबंधी कारोबार में निवेश करना होता है। इसके साथ ही NBFC का काम किसी योजना या फिर व्यवस्था के अंतर्गत एकमुश्त रूप से अथवा किस्तों मे लोन प्रदान करना है।

NBFC क्यों है एक बेहतर विकल्प-

पारंपरिक तौर पर ज्यादातर व्यापारी बिजनेस लोन के लिए बैंकों पर ही निर्भर रहते हैं। मगर बैंको से लोन लेने की प्रक्रिया काफी जटिल है और योग्यता मापदंड भी काफी कठिन होते हैं।  जिसे ज्यादातर व्यापारी पूरी नहीं कर पाते है और अंत में उन्हें निराशा ही हाथ लगती है। वहीं इसके विपरीत NBFC से बिजनेस लोन लेना काफी आसान होता है। NBFC व्यापारियों को बिना किसी ज्यादा बड़ी कागजी कार्यवाई के आसानी से बिजनेस लोन प्रदान करती है। इसके साथ ही ज्यादातर NBFC छोटे व्यापारियों को बिजनेस लोन बिना किसी सिक्योरिटी के ही प्रदान करती हैं।

एक वजह और है, जो छोटे व्यापारियों को बिजनेस लोन लेने के लिए बैंकों की तुलना में NBFC को बेहतर बनाती है। वो वजह है सिबिल स्कोर। बैंक किसी व्यापारी को बिजनेस लोन सिबिल स्कोर के आधार पर देते हैं। अगर व्यवसायी का सिबिल स्कोर अच्छा होगा, तब तो उन्हें लोन मिल जाएगा, लेकिन अगर सिबिल स्कोर अच्छा नहीं हुआ, तो फिर उन्हें बिजनेस लोन नहीं दिया जाता है। मगर ऐसी बहुत सी NBFC हैं, जो बिजनेस लोन देने के लिए सिबिल स्कोर को आधार नहीं बनाती हैं, बल्कि अपने मापदंडों के आधार पर आसानी से बिजनेस लोन प्रदान करती हैं।

कम समय में मिल जाता है बिजनेस लोन-

NBFC की कोशिश रहती है, कि वे ग्राहक को ज्यादा परेशान ना करके कम से कम कागजी कार्यवाई करें। इसके साथ ही NBFC से ग्राहकों को बैंक की तुलना में लोन राशि जल्दी प्राप्त हो जाती है। ज्यादातर NBFC Flexi बिजनेस लोन की भी सुविधा देते हैं। इसके तहत व्यापारी अपनी सुविधानुसार लोन को समय से पहले तथा आसान किस्तों में चुका सकते हैं।

जरूरी दस्तावेज-

बैंको से बिजनेस लोन लेने पर तमाम तरह के दस्तावेज और कागजी कार्यवाई करनी पड़ती है। मगर NBFC बिजनेस लोन के लिए ज्यादा दस्तावेज नहीं मांगते हैं। साधारणतया NBFC जो दस्तावेज मांगते हैं, हम उनके बारे में आपको बताने जा रहे हैं।

  • पिछले 2-3 साल आईटीआर
  • पिछले साल के बैंक स्टेटमेंट्स
  • व्यापार / निवास पता प्रमाण
  • आधार कार्ड और पैन कार्ड


मात्र इन दस्तावेजों की सहायता से छोटे व्यापारी एनबीएफसी बिजनेस लोन प्राप्त कर सकते हैं।

Dec 7, 2018

निवेश योजना और मार्गदर्शन के बारे में सब कुछ पता होना चाहिए

निवेश योजना और मार्गदर्शन के बारे में सब कुछ पता होना चाहिए

लोग निवेश क्यों करते हैं? शायद उन्हें वित्तीय सुरक्षा की जरूरत है। वित्तीय सुरक्षा प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? यह भविष्य में वित्तीय स्थिरता रखने के लिए लंबे समय तक पैसे बचाने और निवेश करना है। अधिकांश लोगों की सामान्य सोच के अनुसार, यदि आपको अधिक धन की आवश्यकता है तो आपको और अधिक काम करने की आवश्यकता है। लेकिन क्या आपके पास पैसे का आनंद लेने के लिए समय नहीं है? आपके लिए हर बार काम करने के लिए आपके पास क्लोन नहीं हो सकता है, इसलिए धन का विस्तार आपके कामकाजी घंटों का विस्तार होता है। निवेश आपके पैसे को आपके लिए काम करना है, अपनी कमाई क्षमता को अधिकतम करना भारत में सर्वोत्तम निवेश विकल्पों के बारे में अधिक जानने के लिए।
investment planning
investment planning 


निवेश योजना और मार्गदर्शन के बारे में सब कुछ पता होना चाहिए

आजकल, निवेश पैसे बचाने के लिए नहीं बल्कि आय उत्पन्न करने के साधनों के रूप में देखा जाता है। आपकी बचत को बढ़ाने के बहुत से तरीके हैं जैसे कि स्टॉक मार्केट, म्यूचुअल फंड, फिक्स्ड डिपॉज़िट, बांड और भी बहुत कुछ।

स्टॉक और इक्विटी जैसे निवेश विकल्प आपको उतार-चढ़ाव वाले स्टॉक इंडेक्स और बाजार की अस्थिरता से जुड़े उच्च जोखिमों के बावजूद अधिक रिटर्न अर्जित करने में सक्षम करते हैं। हालांकि प्रत्येक निवेश विकल्प के साथ कुछ जोखिम जुड़ा होता है, पर जोखिम का स्तर प्रत्येक निवेशक के लिए अलग होता है।
कुछ निवेशक संभावित रूप से अधिक रिटर्न के बदले में अधिक जोखिम ले सकते हैं, जबकि अन्य निवेशक कम जोखिम वाले स्थिर निवेश की सुरक्षा को प्राथमिकता देते हैं। कम जोखिम के साथ जाने वाले निवेशक पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड, बांड, लिक्विड फंड, या फिक्स्ड डिपॉज़िट में निवेश कर सकते हैं।

सही निवेश चुनते समय, अपने निवेश के लक्ष्य पर विचार करने के लिए पर्याप्त समय समर्पित करना, वह अवधि जिसके लिए आप निवेश करना चाहते है उसके बारें में जानना और जिस रिटर्न की आप उम्मीद कर रहे हैं उसकी दर के बारें में सोचना यह सभी महत्वपूर्ण है। प्रभावी ढंग से निवेश करने और अपने निवेश से अधिक लाभ उठाने के लिए, एक स्मार्ट निवेश रणनीति होना महत्वपूर्ण है। यहाँ एक स्मार्ट निवेश रणनीति बनाने का एक संक्षिप्त तरीका दिया गया है।

निवेश रणनीति की रिसर्च करें

सभी उपलब्ध निवेश विकल्पों की मार्केट रिसर्च करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। विभिन्न निवेश योजनाओं और प्रस्तावों की समझ प्राप्त करें जो विभिन्न बैंक और एनएफबीसी (गैर-वित्तीय बैंक कंपनियां) प्रदान करती हैं। असल में, सभी मौजूदा निवेश योजनाओं को जानने और समझने की सलाह दी जाती है ताकि आप एक सोचा-समझा निर्णय ले सकें। यह आपको विभिन्न निवेशों पर उपलब्ध मौजूदा रुझानों और ऑफ़र के बारें में और इनसे होने वाले लाभों के बारें में बताता है। आप प्रत्येक योजना के विभिन्न पहलुओं पर रिसर्च कर सकते हैं जैसे कि:
  •  आप कहां निवेश कर रहे है और स्कीम की आवेदन प्रक्रिया क्या है?
  •  प्रत्येक स्कीम (बैंक या एनबीएफसी) के लिए सबसे अच्छी योजना कौन प्रदान करता है?
  • निवेश के लिए न्यूनतम कितनी राशि की आवश्यकता है?
  • रिटर्न की दरें क्या हैं?
  • क्या निवेश बाजार की अस्थिरता से प्रभावित होगा ? यदि हां तो कितना?
  • दीर्घकालिक लाभ की संभावनाएं क्या है?

जोखिम सहनशीलता(टॉलरेंस) और दीर्घकालिक निवेश

उच्च जोखिम निवेश तब किया जाता है जब उसको करने का लक्ष्य धन को बढ़ाना होता है। जोखिम भरे निवेश वह हैं जो बाजार में होने वाले उतार-चढ़ाव से प्रभावित होते हैं यानी बाजार के पतन के दौरान भारी नुकसान भी हो सकता है। इन निवेशों को आपकी जोखिम सहनशीलता क्षमता के अनुसार किया जाना चाहिए। आपकी उम्र के आधार पर, निवेश के लिए आपका लक्ष्य और बाजार में उतार-चढ़ाव से निपटने के आपके दृष्टिकोण से आपकी जोखिम सहनशीलता क्षमता निर्धारित की जा सकती है। यदि आपकी निवेश योजना बाजार जोखिमों को बर्दाश्त नहीं कर सकती है, तो आप सावधि जमा (फिक्स्ड डिपॉज़िट) जैसे बिना जोखिम वाले निवेश में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। बजाज फाइनेंस 9 .10% रिटर्न के साथ उच्च एफडी ब्याज दरें प्रदान करता है। ये दीर्घकालिक निवेश रिटर्न की गारंटी देते है जो उन्हें कम जोखिम वाला विकल्प बनाती हैं जो कि किसी भी गैर-आक्रामक निवेशक के लिए आदर्श हैं।

विविध निवेश और मूर्त संपत्ति (टेंजिबल असेट्स) आवंटन

जब आपके पास निवेश करने के लिए बहुत अधिक पूंजी होती है, तो आप विभिन्न उद्योगों द्वारा दी जाने वाली विभिन्न योजनाओं में निवेश कर सकते हैं। एक विविध पोर्टफोलियो होने से आपको उच्च रिटर्न, सुरक्षित दीर्घकालिक निवेश और प्रभावी जोखिम प्रबंधन जैसे निवेश के सभी लाभ मिल सकते हैं। अपने पोर्टफोलियो को विविधता देने के लिए आप कुछ योजनाओं जैसे स्टॉक, फंड और बॉन्ड में निवेश कर सकते हैं जिनमें बाज़ारी जोखिम शामिल है। इसी प्रकार, अपने निवेश से जुड़े जोखिम स्तर को कम करने के लिए पेंशन योजनाओं, एफडी या बीमा पॉलिसी जैसी सुरक्षित निवेश योजनाओं में भी निवेश करें। अमूर्त संपत्तियों में निवेश करने के अलावा, आप अचल संपत्ति जैसी मूर्त संपत्तियों में निवेश करके भी अपने निवेश को विविधता दे सकते हैं। हालांकि, रियल एस्टेट लिक्विडिटी के मामले में बिलकुल निम्न स्थान पर है और आपके पैसे को आसानी से प्राप्त करना मुश्किल बनाता है।

एक उचित निवेश का निर्माण सिर्फ शुरुआत है! एक बार जब आप योजनाबद्ध निवेश निष्पादित कर लेंगे, तो आपको बाजार के प्रदर्शन और आपके निवेश पर इसके प्रभावों की निगरानी करने में सतर्क रहना होगा। आपको कानून और निवेश के नियमों के अपडेट के बारे में चौकन्ना रहने की भी आवश्यकता होती है। एक बार आपकी योजना तैयार हो जाती है तो, उसके बाद, मार्केट रिसर्च नियमित रूप से करना आवश्यक होता है। इन प्रथाओं के अतिरिक्त, आउटपुट के लिए आपके निवेश और बाजार के रुझान की निगरानी आपको अपने पैसे को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में मदद करते हैं।