Dec 6, 2017

मानवता मरी नहीं है -Humanity is not dead | by Saurabh Kumar Devrale

मानवता मरी नहीं है -Humanity is not dead | by Saurabh Kumar Devrale

manavta mari nahi hai yar- by sourabh kumar devralay

मानवता मरी नहीं है। 

कुछ ही दिन हुए  थे। मुझे इस बड़े शहर में आये हुए मैं बहुत ही अकेला महसूस करता था, इस शहर में सब कुछ होते हुए भी मुझे एक अकेलापन सा महसूस होता था। मैं जब भी घर से कोचिंग के लिए निकलता, तो मैं देखता ना कोई बोलने वाला, ना कोई पूछने वाला, ना किसी की सहायता करना, ना किसी से बात करना, यही शायद बड़े शहरों की विशेषताएं होती है।मुझे ऐसा लगता है कि मानो यहां पर मानवता मर ही चुकी है। 

फिर मैं रोज ही की तरह अपने समय पर कोचिंग के लिए जा रहा था वही सुनसान उस दिन भी मेरे दिमाग में यही बातें चल रही थी मैं यही सोच रहा था कि मानवता तो मर ही चुकी है इस शहर में और शायद यही बड़े शहरों की विशेषताएं होती होगी क्योंकि इससे पहले मैं किसी बड़े शहर में नहीं रहता था बल्कि एक छोटे से गांव से आया था फिर मैं उसी दिन शाम को घर लौट रहा था। 

तब बस स्टेशन पर एक बुजुर्ग दादा अस्वस्थ थे पैरों से विकलांग थे चल नहीं पा रहे थे एक तरफ उनके व्हील चेयर पर बैठे हुए थे। बोर्ड को नहीं देख पा रहे थे उस भीड़ में जहां पर बसों का समय लिखा होता था उस दिन उन्होंने एक बालक से पूछा "कि बेटा सिलिकॉन सिटी की बस कब आएगी" तब उसने जवाब दिया "क्या मैं आपको कंडक्टर दिखता हूं जो बताऊं,  कौन की बस कब आएगी" मैं भी पीछे खड़ा कर सुन रहा था मुझे यह सुन बड़ा ही दुख हुआ मुझसे रहा ना गया मैं खुद ही पहुंच गया और कह दिया कि "दादा सिलिकॉन सिटी की बस आने ही वाली है" शायद मुझे देखते ही एक और अंकल वहां पर आ गए और वह भी पूछते हैं "आपको कहां जाना है" मैंने कहा "इनको सिलिकॉन सिटी जाना है" 

फिर उस अंकल और मैंने उस बस का इंतजार किया और जब तक हम दादा के पास ही बैठे रहे हमने देखा कि हमारी सारी गतिविधियां अन्य लोग देख रहे हैं टकाटकी लगाएं जैसे ही बस आती है हम दोनों चिंतित हो जाते हैं क्योंकि  हमें लगा कि आज भी रोज की तरह बस में चढ़ने के लिए धक्का-मुक्की होगी पर पर हम आज का नज़ारा देख आश्चर्यचकित हो गए कि जब बस आती है तो रोज की तरह धक्का-मुक्की नहीं होती और वही लड़का जो पहले अभद्रता से बात कर रहा था बोलता है "दादा जी आप ही पहले चले जाइए बस में फिर हम सब चढ़ जाएंगे" और सभी लोग उस दिन बड़े ही आराम से बस में  चढ़ने के बाद भी सीट के लिए लड़ाई झगड़ा नहीं किया तब मुझे लगा की मानवता मरी नहीं है वो अभी छुप गयी है जिसे धुढना होगा। 
सत्य घटना पर आधारित 
लेखक - सौरभ कुमार देवराले 
खिरकिया 

Nov 26, 2017

बस कि आत्मकथा [Bus ki Atma katha]

बस कि आत्मकथा [Bus ki Atma katha]


bus ki atmkatha

भूमिका- मैं बस हूँ | परिवहन के के अनेक साधनों में से एक | जनता-जनार्दन की सेविका | अनेकानेक रूप-रंगों में सड़को पर दौर-दौरकर लोगों को उनकी मंजिल तक पहुँचने वाली सेविका | आप ठहरने के हाथ दिखाते हैं, मैं ठहर जाती हूँ | कंडक्टर की सिटी की धुन पर मैं दिन-रात नाचता हूँ  | ड्राईवर के हाथ का खिलौना हूँ मैं | वह अपनी मर्जी से कबी तेज़ दौराता है, तो कभी कछुए की चल चलता है | चलिए, आप भी स्वर हो जाईये मुझ पर ! मैं आपको अपनी कहानी सुनानी चाहती  हूँ |

विस्तार- कारखाने से जब साज़-धजकर नई नवेली दुल्हन की तरह मैं निकलती थी, तब मेरी शान ही निराली थी | मेरे मालिक ने फूल मालाओं से मेरा श्रृंगार किया था | यात्री अन्य वाहनों को चोरकर मेरी सवारी बनना चाहते थे | रंग-रोगन से सजी थी और सुन्दर नरम गद्दियँ थीं मेरी |

समय परिवर्तनशील है | सदा एक-सा नहीं रहता | मेरे दिन भी बदलने लगे | अंजर-पंजर ढीले पड़ने लगे | बार-बार मुझे मकेनिक के पास ले जाने लागा | चलते-चलते अचानक मेरा दम फूलने जाता और में थम जाती | गर्मी से बेहाल यात्री पानी-पि-पीकर मुझे कोसते | कुछ दुष्ट तो मुझे लतें तक मारते, पान की पीक थूक देते, कुड़ा-कचड़ा फैला देते | में अबला निष्प्राण क्या करती ! सब चुपचाप सहती रहती | एक बार हड़तालो में मेरा ओ बुरा हाल किया की दस दिन तक मैं प्रिय सखी सड़क से नही मिल पाई | पत्थर मार-मारकर कर मेरे शीशे तोड़ दिए, सीटें फाड़ दिए | डंडे मार-मारकर कचुम्मार ही निकल दिया |

उपसंहार- गीत ही जीवन है | मैं तो संतो की वाणी का अनुसरण करती हुँ- ‘चरैवेति-चरैवेति’ अर्थात्- ‘चलते रहो,चलते रहो’ | निरंतर आगे बढ़ना ही मेरा लक्ष्य है | गाँव- शहर, जंगल-पर्वत पार करती मैं निरंतर गतिशील रहती हुँ | जो भी मेरे गोद में आश्रय लेता है, उसे उसके मजिल तक पहुँचती हुँ | गतिवान रहना और गतिशील बनाना ही मेरे जीवन का लक्ष्य है और इसे प्राप्त करने ही मेरे जीवन की सार्थकता है |       


|Download pdf|
बस कि आत्मकथा [Bus ki Atma katha] pdf file

Nov 17, 2017

Top SEO Techniques हिंदी में

Top SEO Techniques हिंदी में

Top Seo Techniques की मदद से 1000+ से भी ज्यादा visitor per day के कैसे लाये। 

नमस्कार दोस्तों आप का स्वागत है Hindi Articles | हिंदी ब्लॉग में। मै सतीश ! आज में आपको बताने जा रहा हु। की आप आपनी वेबसाइट पर  ट्रैफिक/विज़िटर्स कैसे ला सकते है वो भी कुछ Amazing Seo Technique पर काम करके। वो भी बिलकुल फ्री में आपको बताऊंगा Top Seo Techniques  के बारे में जिससे आप अपने वेबसाइट या ब्लॉग की ट्रैफिक को Organically Boost कर पाएंगे। चलिए जानते  उन टेक्निक को ।

top seo technique

वैसे तो Seo करना कोई मामूली बात नहीं, उसके लिए आपको धेर्य रखना होगा और समय के अनुसार अपना काम करना होगा। हाँ आपको स्मार्ट वर्क और तोड़ी टेक्निकल स्किल भी जरुरत पड़ सकती है। ये पोस्ट में उन्ही मित्रो के लिए लिख रहा हु या आपसे शेयर कर रहा हु। जो Seo सीखना चाहते /इच्छुक है और अपने पर्सनल ब्लॉग की Seo खुद करना चाहते है।

आपने बहुत से कंपनी देखे होंगे जो Seo करने के लिए बहुत ज्यादा रकम लेते है। लेकिन इस काम या Technique को आप अच्छे से समझ लेते है तो आपको कोई कंपनी Hire करने की जरुरत नहीं  है।

SEO[Search Engine Optimization] में सबसे ज्यादा फोकस Backlinks बनाने में करना होता है। Backlink के भी 2 Types है
  • Do-Follow
  • No-Follow
Backlinks क्यों जरुरी है वो हम एक उद्धारण के सहायता से समझते है :-

Backlink = Vote Backlinksएक प्रकार की वोटिंग होती है।
Backlinks हमारे लिए वोटिंग का काम करता है।
जितना ज्यादा वोटिंग उतना हमारे पॉपुलरटी को दिखता है।
बैकलिंक्स का भी यही काम है हमारे साइट को पॉपुलर करना या उसे रैंकिंग करना।
तो जितना जयदा बैकलिंक उतना फ़ायदा।


Top Seo Techniques

1. Directory Submission : टेलीफ़ोन Directory की तरह कुछ वेबसाइट की भी Directory होती है जहा से हम आपनी पसंद की वेबसाइट को सर्च कर सकते है हमे इन Directory साईट में आपनी वेबसाइट को सबमिट करना होता है , वह भी किसी ऐसी केटेगरी में जो हमारी वेबसाइट से Related हो , Directory Submission से हमे Do-Follow Backlink मिलता है .

2. Social Bookmarking : social bookmarking वेबसाइट बिलकुल सोशल नेटवर्किंग साईट जैसी ही होती है जिनका उपयोग आप अपनी वेबसाइट या पोस्ट का प्रमोशन करने हेतु करते है। पर इन वेबसाइट से हमे ज्यादा तर No-follow backlink मिलता है। यह आपके keywords  रैंक करने में काफी असरदार होता है।




3. Classified Ads  : olx, Quikr जैसी Classified Ads  साईट हमे लीड और काफी अच्छा ट्रैफिक देती है। हम इस साइट पर लॉग इन होकर अपनी वेबसाइट रिलेटेड एक पोस्ट करना होता है कोई भी यूजर हमारी एड्स को देखता है और क्ल्सिक करता है तो हमारी ट्रैफिक बदती है। इसे आप फ्री advertising के नाम से भी सर्च कर सकते है।

4. Local Listing : लोकल लिस्टिंग ठीक वैसे ही है जैसे आप गूगल बिज़नस पर आपनी वेबसाइट या बिज़नस को Register करते है , यहाँ पर हमे Just Dial , India Mart etc, वेबसाइट पर अपनी वेबसाइट की लिस्टिंग करनी होती है। ताकि कोई भी आपके बिज़नस के बारे में सर्च करे तो, वो वेबसाइट आपके बिज़नेस के बारे में उन्हें दिखाए। ये रिजल्ट एरिया के People को टारगेट करता है।

5. Blog Commenting : आप backlink के लिए Comments  भी कर सकते है। आपके कीवर्ड्स या टॉपिक से रेलेटेड कोई भी वेबसाइट पर कमेंट करे। वहां से backlink ले सकते है। पर ये सभी No-follow backlink ही होते है, पर ये backlink किसी बड़े ब्लॉग या वेबसाइट से आते है, तो आपका ट्रैफिक भी बढ़ता है।

6. Guest Posting:  Guest Posting या Guest blogging ये दोनों नाम एक ही है। गेस्ट पोस्ट का मतलब यही की आप किसी अन्य वेबसाइट या ब्लॉग पर पोस्ट/आर्टिकल लिखते है। उसके बदले उनके वेबसाइट पर आप अपने ब्लॉग/वेबसाइट का लिंक देते है। इसी कार्य को गेस्ट पोस्टिंग कहते है। इस प्रोसेस में बहुत ही जल्दी आपके वेबसाइट में ट्रैफिक और सर्च इंजिन में रैंकिंग करने में मदद मितली है। इसे Fast Link Exchange Process भी कहते है। यदि आप हमारे इसी वेबसाइट में गेस्ट पोस्ट करना चाहते है तो हमसे संपर्क कर सकते है।

7. Forum posting : फोरम पोस्टिंग एक प्रकार की सवाल जबाब वाले वेबसाइट होते है जिसे हम टेक्निकल भाषा में फोरम बोलते है। इन फोरम की मदद से भी backlink ले सकते है। आप को कुछ पोपुलर साईट जैसे Quora जैसे फोरम पर  रजिस्टर करना होना है। और आपके जानकारी के मुताबिक कोई एक टॉपिक सेलेक्ट करना होता है। जिसमे आप उन पहिये गए सवाल का जवाब देकर आप अपने वेबसाइट का लिंक चोर सकते है। है ध्यान देने वाली बात यह है की जो answer आप दे रहे हो उस टॉपिक से संबंध आपका लिंक हो। इससे आपका answer भी लोगो को हेल्पफुल लगेगा और लोग आपके उस लिक के द्वारा आपके वेबसाइट में भी आएंगे।

8. Articles Submission : Articles पोस्टिंग भी एक बढ़िया जरिया है, जिनसे आप अपने वेबसाइट के लिए ट्रैफिक ला सकते है आप को किसी भी आर्टिकल्स साईट पर अपने आर्टिकल्स को पोस्ट करना होता है। और उसपर कुछ लिंक भी डालकर उसे पोस्ट कर देना है। Articles submission के लिए 460 वर्ड की पोस्ट लिखनी होती है। HubPages.comArticlesBase.comeHow.com ये कुछ वेबसाइट बहुत ही जयदा पॉपुलर है जिनमे आप अपने article submit कर सकते है।

9. web 2.0 directory submission : यह एक Advance SEO technique है जिससे आप Fast Backlink बनाने में मददगार होगी यह सबसे Fast Backlink process है। इसके बारे में पूर्ण जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे Web 2.0 Directory Submission List इस पोस्ट को डिटेल्स में पढ़े ये थोड़ा लंबा पोस्ट है इसलिए हमने इसपर अलग ही एक पोस्ट लिखी हुई है।

10. PDF submission :  pdf  सुब्मिशन एक बढ़िया seo तकनीक है जिससे आप Doc फाइल शेयरिंग साईट से आपने वेबसाइट के लिए backlink बना सकते है। आप को बस किसी भी पीडीऍफ़ साईट पर रजिस्टर करना  होना है और अपना pdf  फाइल को share करना है। इसे डिटेल्स में पढ़े PDF File Submission for SEO

11. Press release : press release website एक  फ्री Advertisement प्लेटफार्म है जहा पर आप अपने साईट या बिज़नस की न्यूज़ को फ्री में पब्लिश कर ट्रैफिक ले सकते है। इसे डिटेल्स में जाने Press Release Submission in SEO

Last Words: आप अपनी वेबसाइट पर आर्गेनिक तरीके से ट्रैफिक लाना चाहते है, या उसे रैंक करनाचाहते है। तो इसी पोस्ट में दिए गए  Top Seo Techniques को यदि 1 month भी सही से फॉलो/काम कर लेंगे तो आपको किसी भी कंपनी को Hire करने की जरुरत नहीं है। और एक month के अंडर ही आपका ट्राफीक 1000+ से भी ज्यादा पहुंच जायेगा।

Twitters Ads Campaign कैसे चलाये - Twitter में Ads कैसे लगाए
Social Media Marketing क्या है हिन्दी में
Content Marketing क्या है हिंदी में
Social Media Marketing Business के लिए कैसे Important है जानिए हिंदी में।

उम्मीद है आपको ये पोस्ट पसंद आया है। इसी तरह के पोस्ट पाने के लिए हमारे साथ जुड़े रहिये और इस पोस्ट को ज्यादा से जयदा शेयर करिये जिससे की जो लोग नए है और seo सीखना चाहते है। उन्हें थोड़ा फ़ायदा पहुंच पाए। आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Oct 17, 2017

दीपोत्सव: दीपावली [ Diwali essay ]

दीपोत्सव: दीपावली [ Diwali essay ]

 diwali essay hindi me


भूमिका- भारत पर्वों का देश है | यहाँ अनेकानेक पर्व मनाए जाते हैं | दीपों का उत्सव दीपावली उन्ही में से एक प्रमुख त्यौहार है | कार्तिक मास की अमावस्या की अँधेरी रात को दीपामालाएँ पूर्णिमा बना देती हैं | हर्ष-उल्लास से परिपूर्ण यह पर्व केवल बहार ही नहीं, बल्कि भीतर से भी सबमें आशा और उमंग का प्रकाश जगमगा देता है |

विस्तार- (क्यों मनाया जाता है) – दीपावली के साथ कई धार्मिक तथा एतिहासिक घटनाएँ जुड़ी हुई हैं | श्री राम चौहद वर्ष का वनवास पूरा कर इसी दिन अयोध्या पहुँचे थे | अयोध्या वासियों ने उनके स्वागत में दीपमालाएँ सजाई थीं | समूद्र मंथन से इसी दिन लक्ष्मी जी प्रकट हुई थीं | इसी दिन भगवन विष्णु ने उपने भक्त प्रह्लाद की रक्षा करने लिए नरसिंह अवतार लिया था | जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंक भगवान महावीर का परिनिर्वाण भी इसी दिन हुआ था | सिक्खों के छठे गुरु हरगोविंद सिंह जी भी मुगलों की जेल से इसी दिन मुक्त हुए थे | ये सभी घटनाएँ  इस पर्व के महत्त्व को बढ़ा देती हैं |
diwali essay hindi me

(कैसे मनाया जाता है) दीपावली मनाने की तैयारी कई दिन पुर से ही प्रारंभ हो जाती है | घर की साफ़-सफ़ाई करके सजावट की जाती है | पकवान बनाए जाते है | बाजार और दुकाने सज जाती हैं | विशेस रूप से मिठाई और पटाखों की दुकानों में खूब रौनक रहती है | खिल-बताशो और मिटटी के खिलौने आदि खरीदना शुभ मन जाता है | दीपावली से दो दिन पहले ‘धन-तेरस’ पर नई बर्तन खरीदे जाते है | एक दिन पूर्व ‘नरक चतुर्दशी’ के दिन भी कुछ दीप जलाए जाते हैं | इस दिन श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध  किया था |

दीपावली के दिन का सोभा तो निराली होती है— घर-बाजार नई दुल्हन की तरह सजे होते है | संध्या का अंधेरा घिरते ही सारे घर रोशनी से जगमगाउठते हैं | लक्ष्मी-पूजन और आरती होती है | लो पटाके, फुल्झारियाँ, जलाकर अपना हर्ष प्रकट करते हैं | आतिशबाजी की जगमग से अँधेरी रात रोशन हो जाती हैं |
दीपावली के अगले दिन ‘गोवरधन पूजा’ और ‘अन्नकूट’ होता है तथा दो दिन बाद ‘भैया दूज’ होता है | बहनों अपने भाईयों को तिलक करके मंगलकामना करती हैं | दीपावली का पर्व परस्पर प्रेम और भाईचारे की भावना बढाता है | लोग एक-दुसरे को फल –मिठाई या उपहार देते हैं |
दीपावली का यह सुंदर पर्व जुआ, शराब और पटाखें की दुर्गंध और दुर्घटनाओं से असुंदर भी बन जाता है | इन कुरीतियों को पूरी तरह समाप्त करके ही दीपावली का सच्चा आनंद प्राप्त हो सकता हैं |

उपसंहार- दीपावली हर वर्ष आशा, विश्वास और आनंद का उज्ज्वल प्रकाश लेकर आती है | अंधकार पर प्रकाश की, असत्य पर सत्य की, अन्याय पर न्याय की विजय का संदेश देती है |समृधि की कामना वाले इस पर्व पर हमें उनके अंधियारे जीवन को भी रोशन करना चाहिए, जो गरीब और आशिक्षा के कारण इस दिन मिठाई का एक टुकड़ा तक खरीद नही पाते |  

 |Download PDF|  
diwali essay in hindi pdf

Sep 10, 2017

घनश्याम दास बिड़ला

घनश्याम दास बिड़ला

Ghanshyam das Birla

घनश्याम दास बिड़ला, बिड़ला ग्रुप के संस्थापक थे | वर्तमान में इसका नाम आदित्य बिड़ला ग्रुप हे | घनश्याम दास बिड़ला का जन्म सन 11 अप्रेल 1894 ग्राम पिलानी  राजस्थान में हुआ था | इन के पिता का नाम बलदेवदास बिड़ला था | इनके पिता की चार संतान जुगल किशोर, रामेश्वरदास, घनश्याम दास, ब्रजमोहन दास थी | इनकी माता का नाम योगेश्वरी देवी था | मात्र 14 वर्ष की आयु से ही अपनी सामान्य शिक्षा पूरी कर वे अपने खानदानी व्यावसाय में योगदान देने लगे | 

आईडिया, हिंडालको, और भी कई कंपनिया सव्मित्व में हे | इस ग्रुप का करोबार 20 से अधिक देशो में फेला हे | जिसमे जी डी बिरला का विशेष योग दान रहा | घनश्याम दास बिड़ला भारतीय अर्थव्वस्था के सूत्रधार थे | भारतीय अर्थव्वस्था को प्रगति के पथ पर अग्रसर करने के लिए उनका नाम स्वर्णिम अक्षरों में अंकित हे | घनश्याम दास बिड़ला कभी भी उपलब्धियो से संतुष्ट नहीं होते थे | एक लक्ष्य को प्राप्त कर अगले के लिए अग्रसर हो जाते थे | वे सदेव आत्म प्रसंसा के खिलाफ थे | 

इसलिए उन्होंने अपनी जीवनी पर कभी सहमती नहीं दी | वेसे उन्होंने अपने को कई बार अभिव्यक्त किया जिसका उलेख उनके दवारा लिखे पत्र पत्रिकाओ और भाषण में मिलता हे | जिसमे उनके जीवन दर्शन की झलक मिलती हे | जिससे उनके जीवन की काफी जानकारी मिलती हे | उनके दवारा कियो गए 60 साल के लगतार प्रयासों के कारणों ही 20 सदी में आधुनिक भारत की नीव पड़ी | जब देश आजादी के लिए संघर्ष कर रहा था | तब भी ब्रिटिश सरकार के अधिकारी विस्टन चर्चिल भी भारत में सवेधानिक शासन व्यवस्था के लिए उनसे परामर्श लेते थे | 

उनके दवारा ही भारत में पूंजीवादी व्यवस्था नीव पड़ी | आजादी के बाद उन्होंने देश के उधोग के विकास, कला, संस्कृति, तकनिकी, प्रोधोयोगिकी, शिल्पकला, राजनीती, महत्पूर्ण योगदान दिया | उन के जेसा योगदान किसी और अन्य भारतीय ने नहीं दिया | 1942 आते आते जी.डी. बिड़ला, मील मालिक और उद्योगपति के तोर पर पहचान बना चुके थे | गांधीजी के विचारो से प्रभावित होकर उन्होने खुबसूरत मंदिर, शिक्षण संसथान और सामाजिक कार्यो में भी योगदान दिया | उन्हें दानशीलता और महात्मा गाँधी से आदर्श संबंधो के लिए भी जाना जाता हे | लेकिन दुर्भाग्य से महात्मा गाँधी की हत्या उनके दिल्ली स्थित आवास पर ही हुई थी | 

सामाजिक कार्यो के साथ साथ उन्होंने कभी भी अपने व्यवसायिक हितो को भी क्षति नहीं पहुचने दी | 1947 के पूर्व वे स्वदेशी उधोग के प्रबल समर्थक थे, उन्होंने भारतीय उधोग और उनके विकास के लिए अनेक कार्य किये | जब विश्व युद्ध के कारण विश्व की अर्थव्यवस्था ख़राब थी तब भी घनश्याम दास बिड़ला ने व्यापक लाभ कमाया | 

इस कारण उन होने स्वयं को भारत के प्रथम उधोगपति के रूप में स्थापित कर लिया था | उन्ही के प्रयासों से भारतीय उधोगो को ब्रितानी हुकूमत से रियायते प्राप्त हुई | पूंजीवादी जगत को मजबूत करने के लिए उन्होंने राजनितिक ढाचे के साथ परस्पर समझ को भी विकसित करने का कार्य भी किया |
जी.डी. बिड़ला ने अनेक कार्य किये और वे असिम प्रतिभा के धनी थे | इस लेख में उलेखित विवरण उन के व्यक्तित्व की एक झलक मात्र हे |
   

Aug 21, 2017

Blog बनाकर उसे कम समय मे Popular कैसे बनाये [Blogging]

Blog बनाकर उसे कम समय मे Popular कैसे बनाये [Blogging]

नमस्कार दोस्तो, HindiArticles पे आपका स्वागत है यह हम Daily आपके साथ Technology, Internet से जुड़ी Informative जानकारी शेयर करते है।

आज हम आपके लिए एक Interesting जानकारी लाये है, जो है "Blogging"  Blogging के बारे में तो आप सभी जानते हैं।
Blog क्या होता है,कैसे बनाते है ?? ये तो सभी लोग जानते होंगे, Blog एक Information देने वाली Website होती है। इसमे आपको आपकी रुचि के अनुसार जानकारिया डालनी होती है या मिलती है।

Blog बनाने के लिए आप ऑनलाइन किसी भी Platform का इस्तमाल कर सकते हो, जैसे Blogger , WordPress आदि।
increase-blog-traffic-and-popularity

यदि आप नया ब्लॉग शुरू कर रहे है या कर चुके है तो  आपको सबसे पहले ये जानकारी होना चाहिए की ब्लॉग बनाकर ब्लॉग की प्रमोशन कैसे करना है और कौन-कौन से तरीके पर काम करना चाहिए हम इस पोस्ट में कवर करेंगे। हमने अपने पिछले पोस्ट में बताया था की ब्लॉग शुरू करने से पहले किन बातों को ध्यान रख कर ब्लॉग्गिंग की दुनिया में कदम रखना चाहिए

Beginners के mind में कुछ बातें हर समय आती है कि अपने blog traffic कैसे increase करें, अपने blog की search engine rank कैसे बढ़ाएं, अपने Blog Audience Grow कैसे करें,अपने blog को Google में top पर कैसे लायें या अपनी website को जल्दी popular कैसे बनायें, increase blog traffic on blogger, ये सभी Queries हमारे mind अति है।


Blog को कम समय मे  Popular कैसे बनाये या traffics कैसे लाएं। 

Blog को Popular बनाना लोगो[Bloggers ] को तो ये इतना मुश्किल लगता है कि पूछो ही मत। लेकिन लोगो[Bloggers ] के लिए ये बाय हाथ का खेल होता है क्योंकि इसमें वो लोग hard work नही Smart Work करते है। निचे जो points दिए जा रहे है इन्हे ध्यान से पढ़िए और regularly यानि हर रोज़ अपने ब्लॉग पर, इन  points के मुताबिक काम करिये। आप को अच्छा result मिलेगा में वादा करता हु।

∎ Social media Promotion 

Social Media से आज कल काफी बड़े बड़े काम होते है, यह तक कि कई बहुत बडे ओर विशाल आंदोलन भी छेड़े जाते है। Social मीडिया से हम कई नए लोगो से भी जुड़ सकते है, ओर जुड़ते भी है।

Social Media के माध्यम से हम अपने Blog को भी Easily Promote कर सकते है क्योंकि इससे हमें Post करने में ओर Traffic प्राप्त करने में आसानी होती है। हमारे ब्लॉग को Popular बनाने के लिए हमे Social Media पर ऐसे लोगो से जुड़ना चाहिए जो हमारे Blog के Topic को लेकर Interested हो ओर साथ ही वो उनके पोस्ट पढ़ने चाहते हो, ऐसे में हमको अपने Blog के बारे में उनके साथ शेयर करना चाहिए।

Social Media पर Promotion व marketing करना है। कैसे करना है यहाँ क्लिक करे।
Social Media Marketing क्या है हिन्दी में
Social Media Marketing Business के लिए कैसे Important है जानिए हिंदी में


# Facebook Page से

Facebook दुनिया का सबसे बड़ा Social Media Platform बन चुका है हमे हर तरह के लोग यहा मिल जाते है ,Facebook के माध्यम से हम कई लोगो से जुड़ते भी है।
Facebook से हम अपने blog को आसानी से Popular बना सकते है, इसके लिए हमे बस एक Facebook Page बनाना होता है।  यानी जब हम Facebook Page बनाते है तो उसको लोग लाइक करते है
तो हम अपने Facebook Page को लाइक करने के लिए लोगो को Invite कर सकते है जो उस Topic में Interested हो। ओर उस Facebook Page पर हम अपने Blog ओर Blog Post की Links शेयर कर सकते है।

# Facebook Groups से
Facebook Group आपको सुनने में थोड़ा अजिब लगा होगा लेकिन ये सच है।  Facebook Groups के माध्यम से हम अच्छा traffic प्राप्त कर सकते है और साथ ही Blog को Popular और अच्छी ट्रॅफिक्स भी बना सकते हैं
क्योंकि आज कल Facebook Groups का Craze इतना बढ़ गया है कि हमको हर Topics पर Groups मिल जाएंगे, हमको अपने Blog से जुड़े Topic के Groups ढूंढने होते है, जिनमे ज्यादा मेंबर हो उनको Join करना होता है। हमारे ग्रुप से जुड़े। 

# Twitter से 
Twitter से blog Promotion कर सकते है। ट्विटर जो की 140 words में Content या Information Sharing के लिए जानी जाती है। Twitter का use काफी हो रहा है खास करके इंडिया में ट्विटर पर काफी पंगे होते रहते है क्योकि यहाँ पर ज्यादा तर लोग Politics का शिकार हो जाते है।
Twitters Ads Campaign कैसे चलाये - Twitter में Ads कैसे लगाए

# Google plus 
गूगल प्लस भी अच्छा सोर्स है पॉपुलर बनाने का और ट्रैफिक generate करने का। गूगल प्लस में आप अपने Niche/Topic से सम्बंधित Communities को Join करे। और वह अपना पोस्ट शेयर करे। कुछ communities में ब्लॉग प्रमोटिंग करना मना होता है। ये बात ध्यान रखकर शेयर करे। आप हमारे communities को Join कर सकते है।

#Mooshak.in
मूषक भी एक सोशल साइट है। ये बिलकुल ट्विटर जैसे है। लेकिन मूषक साइट में एक खास बात यह है की हम अपनी मात्रा भाषा "हिंदी" में शेयर कर सकते है। और "हिंदी" ही इसकी Officially Language है। मूषक "Made in India" साइट है। और धीरे धीरे भारतीय मूषक साइट पे अपना ज्यादा समय दे रहे है। आने वाले समय में मूषक बहुत ही active साइट बनती जा रही है।

सोशल साइट पर Regularly जानकारी डालनी होती है जिससे वो अपने आप ही हमारी तरफ आकर्षित होंगे जिससे वो हमारे Blog को Daily विजिट करने लगेंगे। सोशल प्रमोशन के लिए इंटरनेट पर बहुत से वेबसाइट मौजूद है। आप सर्च कर सकते है।


∎ Guest Blogging and commenting

# Guest Post
Guest Post मे हम किसी Blog के Owner से contact करके हम उस Blog पर Post करते है जिससे वो हमें Backlink देता है और साथ ही हमारे Blog के बारे में लोगो को पता चलता है।
लेकिन हमें इसके लिये कुछ बातों का ध्यान रखना होता है कि Blog पर traffic अच्छा है या नही?? Blog का DA ओर PA अच्छा है या नही?? Blog हमारे Blog के Topic का है या नही?

इन बातो का ध्यान देकर आप दूसरे सम्बंधित ब्लॉग में अपना पोस्ट पब्लिश करे।

#Commenting 
आप अपने सबंधित ब्लॉग को फॉलो करे और उनके पोस्ट में अपना कमैंट्स या राय दे। इससे  फ़ायदा  भी backlink(no follow backlink)  प्राप्त होंगे और वह से विसिटोर्स आपके कमेंट में क्लिक करके आपके ब्लॉग में पहुंच जायेगा।  इसमें एक बात ध्यान देने वाली है की आप जो भी कमेंट करे कमेंट अच्छा और सुझाव दायक हो लोगो को ऐसा लगना चाइये की आपके कमेंट या राय valuable है।


∎ Links Submission

 link submission को हम कई नाम से जानते है जैसे - web Directory, web submission , directory submission , Link directory इन सभी का मतलब एक ही है। ये submission एक प्रकार की वोटिंग होती है आपके ब्लॉग को रैंक या first Position में लाने के लिए। जिनते ज्यादा Links यानि Backlink होते है Google उन Links को देखकर आपके ब्लॉग को अपने सर्च में  रैंक यानि एक पोजीशन देता है। तो जितने अचे आपके लिंक्स होंगे गूगल में आपको उसके हिसाब से अच्छा पोजीशन मिलेगा। इसके बारे में ज्यादा से जयदा जानकारी लेने के लिए आप यहाँ क्लिक करे -Links submission and directory submission कितना important है|  Pdf Submission से Blog की Search Engine Ranking कैसे बढ़ाये

∎Create Original content and Updating contents 

कई नए Bloggers इस बात को महत्वपूर्ण नहीं समझते और दूसरे ब्लॉग से उनके कंटेंट्स को कॉपी करते है। और उनका ब्लॉग गूगल द्वारा penalize कर दिया जाता है। सबसे ध्यान रखने वाली बात यह है की किसी के ब्लॉग के कंटेंट को कभी भी कॉपी नहीं करना चाहिए। यदि किसी Important Topic है आपके यूजर के लिए Informative है तो उनसे Permission ले लीजिये और उनका Credit Link भी दीजिये इससे गूगल आपको सही समझेगा।

और समय समय पर अपना ब्लॉग को अपडेट करते रहिये अपने Viewers को नयी नई जानकारी से अपडेट करते रहिये। तभी आपके Viewers आपके Blog को Visit करते रहेंगे।


∎ Always Focus on Create attractive and Strong Heading/Title 

अपने पोस्ट या कंटेंट को लिखते वक्त आपको हमेसा आकर्षित करने वाला Heading और Title को बनाना चाइये इससे ये फ़ायदा होगा आपके Heading और title को देख कर आपके पोस्ट को पड़ने के लिए उत्साहित होंगे। ये बहुत ही अच्छा तरीका होता है। जब तक आपका हेडिंग या टाइटल आकर्षित नहीं होगा तब तक Visitors उस पोस्ट को पड़ने के लिए उत्साहित नहीं होंगे। 
  • 80% लोग Headings और Title को देख कर Decide करते है की उन्हें ये पोस्ट पढ़ना चाहिए या नहीं ।
इसी बात को ध्यान में रख कर  Heading और Title को Strong and Attractive बनाना चाहिए।

Suggestion and opinion: यदि आप इन बातों को ध्यान में रख कर blogging करेंगे तो में guarantees देता हु आपका ब्लॉग बहुत जल्द पॉपुलर और अच्छा ट्रैफिक देगा।साथ ही अच्छा इनकम भी देगा। आप नए ब्लॉगर है तो आपको एक week में काम से काम 2 पोस्ट जरूर डेल ताकि गूगल को भी समझ आए की आपका ब्लॉग active है। और trusted information ही share करे।


यदि आपको इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी सवाल पूछना हो तो निचे कमेंट जरूर करे। और हमसे जितना हो पायेगा हम आपकी ब्लॉगिंग में मदद जरूर करेंगे। इस post को social media के ज़रिये अपने friends जोकि नए bloggers हैं, उनके साथ शेयर करना बिलकुल मत भूलिए। धन्यवाद। 

Aug 11, 2017

PayTm Digital Gold क्या है,1 रूपए में कैसे ख़रीदे Paytm Gold

PayTm Digital Gold क्या है,1 रूपए में कैसे ख़रीदे Paytm Gold

दोस्तों आप सभी paytm तो चलाते ही होंगे। क्या आपको पता है paytm से आप गोल्ड यानि सोना भी खरीद सकते है। जी हाँ , दोस्तों अब paytm हम भारतीय के लिए एक अच्छा सेविंग व इन्वेस्टमेंट करने का तरीका लाया है। Paytm आपने ग्राहकों को के लिए Digital Gold की स्कीम लाया है जो आपको 24 कैरट 999.9 की शुद्ध सोना खरीदने को मिलेगा। इसकी खास बात यह है की अब आप 1 रूपए  से लेकर लाख तक का सोना खरीद सकते है।

paytm gold digital gold


#PaytmGold- DigitalGold भी कह सकते है। क्योकि ये गोल्ड आपके Paytm wallet में जमा रहेगा। बाद मे आप चाहो इसे अपने घर पर भी माँगा सकते है। या फिर Paytm से ही बेच सकते है। अच्छे कीमतों बढ़ने पर।

अपने भविष्य के लिए और अपने परिवार की जरूरतों के लिए पैसों को बचत य Saving करके रखते है। कोई अपने पैसे बैंक में जमा कर रखता है, कोई प्रॉपटी पर पैसे लगा कर रखता है वगैरह वगैरह। हम सभी को पता है की सोना यानि Gold एक अच्छा Saving व Investment  करने का तरीका होता है। जिसे हम बाद में जरुरत पड़ने पर उसे बेच सकते है। PaytmGold में भी Saving और Investment कर आपने पैसे को सुरक्षित कर सकते है। जैसा की मेने बताया 1 रूपए में भी आप PaytmGold Buy कर सकते है। 

आप अपने सेविंग या बचत के हिसाब से PaytmGold खरीद कर जमा कर सकते है। और जरुरत परने पर या कीमत बढ़ने पर उसे बेच सकते है। या फिर अपने घर पर real Gold  मंगवा सकते है। वो कैसे करना हो वो हम निचे बतएने।

जब गोल्ड आपके पेटम वॉलेट में होता है तब आपको उसका मेकिंग चार्ज नहीं देना पड़ता है। जब आप गोल्ड को अपने घर पर Delivery करवाएंगे तब मेकिंग चार्ज देना होगा। 

चलए इसके बारे में थोड़ा Details में जान लेते है। की PaytmGold- DigitalGold क्या है? और कैसे काम करता है? कैसे खरीद सकते है कैसे बेच सकते है? Orignal या Real Gold घर पर delivery कैसे पा सकते है ?


Paytm Gold क्या है, जानकारी हिंदी में। 

PaytmGold को हम Online Gold या Digital Gold के नाम से जान सकते है। PaytmGold की स्कीम को अक्षय तृतीया के मौके पर इस सुविधा को Launch किया। PaytmGold से आप 24 कैरट, 999. 9 शुद्ध सोना खरीद सकते है। PaytmGold की खास बात यह है की आपको 1 रूपए का भी सोना मिलेगा। जो की आपके Paytm Wallet (Locker) में Store करके के रख सकते है। और अपने सेविंग(income) के अनुशार आप गोल्ड को खरीद कर रख सकते है जब ये एक Big Amount(ज्यादा रकम,रूपए ) में हो जाये तो PaytmGold को Coin के रूप में अपने घर मंगवा सकते है याफिर सोने की कीमत बढे पर Paytm से ही बेच सकते है। 

PaytmGold की स्कीम को सफल बनाने के लिए देशी व विदेशी कंपनी के साथ Partnership की है।
MMTC (Metal and Minerals Trading Corporation of India) or
PAMP (Produits Artistiques Meteux Precieux)
MMTC भारतीय कंपनी जय जबकि PAMP स्विज़रलैंड की कंपनी है।

Features of paytm digital gold

50 हजार से ज्यादा की खरीद पर देना होगा KYC व पैन कार्ड . 

सोना खरीदने के लिए Paytm में, उपभोक्‍ता को अपना नाम, मोबाइल नम्‍बर, पिन कोड Register करना होता है। अगर Transaction 50 हजार तक का है तो KYC Documents देने होगा और अगर 2 लाख तक का Transaction है तो पैन कार्ड Submit करनी होगी।
KYC कैसे देना है :- यहाँ क्लिक करे। How to complete your KYC process . 

Important tips: Paytmसे सोना खरीदने से पहले आप अपने paytm account को अच्छी तरह से वेरीफाई कर ले। अपने मोबाइल,ईमेल को अच्छी तरह से verify करले ताकि Paytm में आगे चलते आपको कोई problem का सामना न करना पड़े। 

PayTm Gold कैसे ख़रीदे पूरी जानकारी। 

Paytm Gold-Digital gold को कैसे खरीदना है। आपको लग रहा है की  गोल्ड को खरीदने के लिए बहुत से डाक्यूमेंट्स की जरुरत है ! बिलकुल टेशन न लीजिए आपको कोई भी डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता नहीं है।
paytm से आप जैसे बिल जमा करते है, मूवीज टिकट बुक करते है ठीक वैसे ही आपको Gold buy करने के लिए करना है। वैसे तो में निचे Steps से समझा रहा हु आप देख सकते है।  

आप मेरे Steps को फॉलो करे

Step1: Login Your Paytm account
Step2: Go To Home and click Gold

paytm gold

Step3: अब आपको Buy Gold का बटन दिख रहा है। 

live rate of gold

red बॉक्स के अंदर आपको गोल्ड का Live Rate दिख रहा है इसमें Making Charge नहीं जुड़ता है। क्योकि ये Digital Gold के रूप में आपके e wallet में store रहेगा ।

Step4: अगला पेज में आपको गोल्ड कैसे खरीदना है वो पूछ रहा है। Buy in Rupees & Buy in Grams ये दो ऑप्शन आपको दिखेगा आप गोल्ड को रुपए में और ग्राम में खरीद सकते है। 

enter amount

अपना Amount या Gram भरने के बाद Proceed बटन पर click कर दें।  और इस पेज में आपको वैल्यू दिखा देखा की कितने रूपए का कितना ग्राम मिलेगा। 
Step5: last n final अपने पेमेंट मेथड को सेलेक्ट करके पेमेंट कर दीजिये। 

अपने गोल्ड को देखना चहिते है तो दोबारा Gold के ऑप्शन पर जाये। 

your gold

आपको वह अपने गोल्ड के लाइव प्राइस भी दिखेग। की इस टाइम अभी गोल्ड का क्या रेट चल रहा। अब चलिए देखते है की गोल्ड को कैसे बेचा जाये या उसे अपने घर Delivery कैसे करे। अपने घर कैसे मंगवाए। 

How Sell Paytm Gold and How Get Delivery your Own Address

यदि आप Paytm Gold को बेचना चाहते है तो आपको 10 रूपये IMPS का चार्ज लगता है जो की आपके बैंक में ट्रांसफर करने के कारन लेता है। और घर पर डिलीवरी पाने के लिए गोल्ड को कॉइन के रूप में लाने के लिए आपको मेकिंग चार्ज देना होगा फिर आपको आपका सोना आपके घर पर डिलीवरी कर दिया जायेगा। ये प्रोसेस बहुत ही easy है। 
Step1: यदि आपको Paytm Gold Sell करना हो। Sell Gold पर क्लिक करे। इसका ऑप्शन आपको Gold में ही मिलेगा। 
you want to sell gold
अपने ख़रीदे हुए गोल्ड पर क्लिक करे। 

you want to sell gold
आपको अपना गोल्ड दिख रहा है ऊपर बॉक्स में अब आप को sell करना है तो Sell Gold बटन पर क्लिक करे। 

enter your banks details
ये पैसे आपके बैंक अकाउंट में जायेंगे इसलिए अपना बैंक्स के डिटेल्स को सही से भरे और प्रोसीड पर क्लिक कर दे। 

Step2 : यदि आप सोना अपने घर पर डिलीवरी चाहते है तो यहाँ GET Delivery पर क्लिक कर दे।  ये ऑप्शन आपको Gold में ही मिलेगा। 
you want to get your real gold
Get Delivery के बारे में थोड़ा बताना चाहूंगा। डिलीवरी आप तभी कर सकते है जब आपके पास 1 ग्राम से अधिक का सोना हो। और इसमें आपको मेकिंग चार्ज देना होगा। क्योकि जब आपने गोल्ड को ख़रीदा था तब यह digitally था तब आपसे मेकिंग चार्ज नहीं लिया जाता।
अधिक जानकारी के लिए :- https://paytm.com/digitalgold/redeem

आपने jewelry शॉप से कई golds के jewelry बनवाये होंगे।  वे भी उस jewelry को डिज़ाइन के अनुशार बनाने के लिए आपसे मेकिंग चार्ज लेते है।  ठीक इसी तरह Delivery के समय आपसे उस गोल्ड का मेकिंग चार्ज लिया जायेगा। आप जब Get Delivery पर जाते है अगले पेज पर आपको बहुत से कॉइन के डिज़ाइन दिखा होगा वह सबके मेकिंग चार्ज दिए होते है। सभी कॉइन के अलग अलग मेकिंग चार्ज तथा कितने ग्राम में कोनसा कॉइन बन सकता है वह mention किया होता है।



तो आप अच्छी तरह समझ गए होंगे की कैसे खरीदना है कैसे बेचना है और कैसे घर लाना है।


🌟 में अपनी एक राय सभी दोस्तों व स्टूडेंट्स के साथ साझा करना चाहता हु। की आप अपने पॉकेट के खर्चे (10,50,100)में से कुछ पैसे Paytm Gold में रखे। और थोड़ा थोड़ा करके Paytm Gold को स्टोर करे। ताकि आपके future में ये पैसे काम आ सके। इन पैसो को आप अपने जरूरतों को पूरा कर सकते है। क्योकि Students Life में बहुत सी प्रॉब्लम होती रहती है। में भी आप ही की तरह एक Student ही हु। 

उम्मीद है आपको ये money saving, Paytm gold Digital Gold की पोस्ट Helpful व informative लगी। आप अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को साझा करे व आपकी राय, सुझाव  या कोई सवाल हो तो निचे कमेंट करें।