Mar 24, 2018

Virtual Currency आभासी मुद्रा के प्रकार :- भाग 1

Virtual Currency, bitcoin in hindi

हमने पिछले अध्याय में जाना की Virtual Currency क्या होता है? आभासी मुद्रा क्या होता है?  इस अध्याय में इनके प्रकार के बारे में पढ़ेंगे। आज के समय में कई प्रकार की #Virtual Currency उपलब्ध है। जेसा की हम जानते हे की इसे कई नामो से पुकारा जाता हे जेसे डिजिटल करेंसी #Digital Currency, क्रिप्टो करेंसी आदि | जेसा की इस मुद्रा का निर्माण क्रिप्टोग्राफी के द्वारा किया जाता हे |

इस प्रणाली का प्रयोग कर वर्तमान समय तक कई Virtual Currency का निर्माण किया जा चूका हे । Bitcoin, उन में से एक हे इसके आलावा भी कई Currency करेंसी हे | लेकिन विवादों के कारण बिट कॉइन BitCoin, का नाम ज्यादा प्रचलन में आया | अन्य मुद्रा की तरह इसे भी किसी भी देश में उपयोग में लाया जा सकता हे | लेकिन इसका लेनदेन online ऑनलाइन ही किया जा सकता हे |

नोट की तरह आप इसका व्यवहारिक और भोतिक लेनदेन नहीं कर सकते और नहीं इसके मूल्य को नियंत्रित किया जा सकता हे | कियोकी इस पर किस सरकार या संस्था का कोई अधिकार या नियंत्रण नहीं होता हे | Virtual Currency की इन समस्या और इसकी उपयोगिता को देखते हुए कई देशो में क़ानूनी विचार विचार विमर्श जारी हे भारत भी उन में से एक हे | 

जिनके नाम और विवरण इस प्रकार हे :-

1. बिटकॉइन Bitcoin (BTC) Virtual Currency की बात करे तो Bitcoin दुनिया की पहली Virtual Currency हे इसे सन 2009 में लाँच किया गया था, इसका निर्माण सातोशी नाकामोटो ने किया था | यह एक प्रकार की विकेन्द्रित मुद्रा हे जिस पर किस सरकार और संस्था का कोई अधिकार और नियंत्रण नहीं होता हे | यह (open Source) ओपन सोर्स तकनीक पर काम करता हे | और इसके लेनेदेन में कोई शुल्क भी नहीं लगता हे, और न ही इसकी कोई (Credit Limite) क्रेडिट लिमिट होती हे | यह पूरी तरह सुरक्षित और तेज नेटवर्क हे, और इस में बिना उपयोग करता का पता लगाये पुरे नेटवर्क की जानकारी मिल जाती हे | और किसी भी देश में पेसे का लेनदेन किया जा सकता हे, इसलिय इसका इतना प्रचलन हे |

2. एथोरम Ethereum (ETH) यह भी Bitcoin की तरह (open Source) ओपन सोर्स तकनीक पर काम करता हे | यह भी एक विकेन्द्रित मुद्रा (Decentralized Currency) हे | यह एक (Blockchain Computing) ब्लोकचैन कंप्यूटिंग तकनीक हे, जिसकी मदद से डिजिटल टोकन (Digital Token) बनाये जाते हे | जिससे की इसका (Currency) करेंसी की तरह उपयोग किया जा सके | इसके क्रिप्टोकरेंसी टोकन (Cryptocurrency Token) को ईथर (Ether) भी कहा जाता हे | ये (Bitcoin) बिटकॉइन से काफी तेज हे कियोकी इसको ब्लाक क्लियर करने में मात्र 15 सेकंड लगते हे, जबकि (Bitcoin) बिटकॉइन में 10 मिनिट का समय लगता हे | इसके अविष्कारक का नाम (Vitalik Buterin) विटालिक बटरिन हे | इसे सन जनवरी 2014 नार्थ अमेरिका मीअमी में लाँच किया गया था |

3. लाइटकॉइन Litecoin (LTC) यहाँ भी एक (Decentralized) विकेन्द्रित मुद्रा हे, Peer to Peer Cryptocurrency हे जो Open Source Software MIT/X11 License पर काम करता हे | (Litecoin) लाइटकॉइन की ब्लाक जनरेशन (Block Generation) में समय (Bitcoin) बिटकॉइन की तुलना में 4 गुना कम लगता हे, इसलिए इससे पेसे का transaction बहुत जल्दी हो जाता हे | इसको बिटकॉइन (Bitcoin) की तर्ज पर बनाया गया हे, इसलिए इसके बहुत से features (Bitcoin) बिटकॉइन से मिलते जुलते हे | इसमें पेसे जमा करने की प्रकिया जिसे हम मीनिंग (Mining) कहते हे, में Script Algorithm का उपयोग किया जाता हे | इसे सन अक्टूबर 2011 में (Charles Lee) चार्ल्स ली ने बनाया था |

सम्बंधित पोस्ट :-


उम्मीद है आपको हमारी दी गयी जानकारी से  कुछ सिखने मिली। आप अपने दोस्तों के साथ भी इस जानकारी को शेयर करे। और इससे सम्बंधित जानकारी के लिए, ब्लॉग में रेगुलर आते रहिये। कोई सुझाव या जानकारी के लिए कमेंट करे।  

SHARE THIS

Author:

Writer  &  Accountant

0 comments: