Jun 8, 2016

दूरदर्शन का जीवन पर प्रभाव [effects of television in life essy in hindi]

 दूरदर्शन का जीवन पर प्रभाव निबंध


भूमिका- दूरदर्शन या टी॰वि॰ आज हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन चूका है | महलों से लेकर झोपड़ियों तक इसने अपनी जगह बना की है | कुह इसे ‘बुद्धू बक्सा’ कहते है यो कुछ ‘जादू का पिटारा’ | जो भी हो, ज्ञान और मनोरंजन का आज यह सबसे प्रभावशाली साधन बन चूका है |
विस्तार- दूरदर्शन का अविष्कार उन्नीसवीं सदी में महान वैज्ञानिक जे॰एल॰बेयर्ड ने किया था | इसका पहला सार्वजानिक प्रदर्शन सन् 1925 में लंदन में हुआ था | तब से आज तक इसका प्रसार निरंतर बड़ते जा रहा है | भारत में 15 सितंबर सन् 1959 को हमारे प्रथम राष्ट्र्यापति डॅा॰ राजेंद्र प्रसद ने आकाशवाणी के टेलिविज़न विभाग का उद्घाटन किया था |

आज हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा बन चूका है | मनोरंजन का इससे सस्ता और प्रभावशाली कोई अन्य साधन नही है | नृत्य, संगीत, नाटक एवं फिल्म का आनंद घर बैठे ही लिया जा सकता है | जब से विभिन्न चैनेल आए है, मनोरंजन कार्यकरम की बढ़ सि आ गयी है | आप उदास है तो बस बटन दबाये और हँसी-ठहाकों की दुनिया में खो जाए  | नई-नई धारावाहिक कुछ समय के लिय हमें कल्पना की दुनिया में ले जाते हैं | जहाँ पहुँचकर हम दिनभर की थकान भूल जाते हैं |
दूरदर्शन का जीवन पर प्रभाव निबंध

यह मनोरंजन का खज़ाना है ही, ज्ञान का भंडार भी है | घर बैठे आप देश-विदेश की सैरकरने के साथ-साथ वहाँ की सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं | बर्फीले हिम प्रदेश, सूखे रेजिस्थान, घने भयावह जंगल, गहरे सागरों के भीतर की दुनिया- जहाँ जाना चाहें, आप रिमोट के बटन दबाकर पहुँच सकते हैं | डिस्कवरी(discovery), हिस्ट्री चैनल(history channel), ज्योग्राफिक चैनल(geographic channel) कुछ ऐसे चैनल हिन्, जिनके कार्यकरम ज्ञानवर्धक होने के साथ-साथ मनोरंजन और मनोहारी भी होते हैं |

चिकित्स्या, कृषि, व्यापार, खेलकूद आदि से सम्बंधित कई चैनल इन क्षेत्रों की आधुनिकतम जानकारी चौबीसों घंटे मिलती है | देश-विदेश के समाचार एवं  समाज तथा देश से जूरी घटनाओं पर परिचर्चाएं भी प्रसारित की जाती हैं | जीवन एवं स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान प्रस्तुंत करने वाले कार्यकरम भी उयोगी होती हैं | अब तो धर्म हो या योग सभी दूरदर्शन हमें जोड़े रखता है |
दूरदर्शन का जीवन पर प्रभाव निबंध
हानियँ- फूलों के साथ कांटे भी होते है | इसी प्रकार दूरदर्शन के लाभ तो है लेकिन हानियाँ  भी है | पारिवारिक रिश्तों में ये कुप्रभाव डालना शुरू कर दिया है | पहले सब साथ बैठकर हँस्ते-बोलते थे, अपना शुख-दुःख  बाँटते थे | अब बस दूरदर्शन(टी॰वी॰) के सामने बैठ जाते है | इससे कार्यक्रम का अस्तर दिन-व-दिन ऊँचा होने के स्थान पर गिरता जा रहा है | फूहड़, अशलील कार्यक्रमों का किशोरों  और युवायोंपर बुरा असर पड़ रहा हैं | लगातार देखते रहने पर आँखों पर जोड़ पड़ता है | सैर करने के स्थान पर बैठे रहने से शरीर में  कई रोग घर कर लेते हैं | मोटापा उनमे प्रमुख है |

उपसंहार- अंततः कहा जा सकता है  की दूरदर्शन  मनोरंजन और ज्ञान का एसा जंगल है, जहा हरियाली भी है और ज़हरीले पेड़-पौधे भी | चौकड़ी भरते हिरनों के झुंड भी हैं, और खौफनाक शेर-चीते भी | आवश्यकता है हम विवेक से काम लें और रिमोट का बटन का सही प्रयोग करें | केवल ऐसे कार्यक्रम ही देखें,  जो उच्च्स्तिरीय हों, हमारे विकास से साधक हों बधाक नहीं | यह हमारे नीरस जीवन में रस घोलने और ज्ञान के सूर्य से जीवन को जगमगाने का प्रभावशाली साधन हैं |

|Download PDF|
 effects of television in life essy in hindi pdf




SHARE THIS

Author:

हेल्लो दोस्तों मैं हारून, इस ब्लॉग Hindiarticles.com का founder(Owner) हूँ. आप सभी के सहयोग से हमारा यह ब्लॉग, हिन्दी और हिंगलिश भाषा में blogging, digital marketing, internet की जानकारी, क्या-कैसे, computer से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करतें है| 

1 comment: