May 7, 2016

नागार्जुन [Nagaarjun]

 जीवन परिचय


जन्म:- नागार्जुन का जन्म उसके ननिहाल सतलखा जिला दरभंगा (बिहार) में सन् 1911 में हुआ था | इनका पैत्रिक गाँव तरौनी, जिला मधुबनी था | इनका मूल नाम वैधनाथ मिश्र था | इनकी प्राम्भिक शिक्षा स्थानीय संस्कृत पाठशाला में हुई | उच्च शिक्षा वाराणसीऔर कोलकत्ता में प्राप्त की | सन् 1936 में वे श्रीलंका गए व वहीं पर बौद्ध धर्म  में दीक्षित हुए | सन् 1938 मव वे स्वदेश वापस आए | पक्कड़पन तथा घुमाक्करी उनके जीवन की प्रमुख विशेषतए रही है | राजनितिक कार्यकलापो की वजह से अनेक बार उन्हें जेल जाना पड़ा |

          सन् 1935 में उन्होंने ‘दीपक’ (हिंदी मासिक) और 1942-43 में ‘विश्वबंधू’ (साप्ताहिक) पत्रिका  का संपादन किया | अपनी मृत भाषा मैथिली में वे यात्री के नाम से लेखन करते रहे | मैथिलि में नविन भावबोध की रचनाओ का आरम्भ उनके महत्वपूर्ण कविता संग्रह ‘चित्रा’ से माना जाता है | नागार्जुन ने संस्कृत और बंगाली में भी काव्य रचना की है |


निधन:- इनकी मृत्यु सन् 1998 में हुई|

रचनाएँ:- उनकी प्रमुख कृतिया है- ‘प्यासी पथराई आखें’, ‘सतरंगो पंखो वाली’, ‘तलाब की मछलिय’, ‘हजार-हजार बहों वाली’, ‘तुमने कहा था’ , ‘पुरानी जूतियो का कोरस’, ‘आखिर एसा किया कह दिया मैने’, ‘रत्नगर्भा’, ‘ऐसे भी हम क्याः ऐसे भी तुम क्या’, ‘पका है कटहल’, ‘मैं मिलतरी का बुढा घोरा’, और ‘भास्मकुर’ (खंडकाव्य) | ‘बलचनमा’, ‘रतिनाथ की चाची’, ‘कुंभीपाक’, ‘उग्रतारा’, ‘जमनिया का बाबा’, ‘वरुण के बेटे’ आदि उपन्यास खास महत्वा के है |


साहित्यिक विशेषतएँ:- नागार्जुन साहित्यक और राजनीती दोनों में सामान रूप से रूचि रखने वाले प्रगतिशील साहित्यकार थे | वे धरती, जनता और श्रम के गीत गाने वाले संवेदनशील कवि थे |  कबीर जैसी सहजता उनके काव्य की विशेषता हैं | उनकी  भाषा में चट्टा्नकी मजबूती है | उन्होंने कई आन्दोलन धर्मी कविताओ भी लिखी है जिन्हें ‘पोस्टर कविता’ कहा जाता है | वे अच्छे उपन्यासकार भी थे |          

SHARE THIS

Author:

हेल्लो दोस्तों मैं हारून, इस ब्लॉग Hindiarticles.com का founder(Owner) हूँ. आप सभी के सहयोग से हमारा यह ब्लॉग, हिन्दी और हिंगलिश भाषा में blogging, digital marketing, internet की जानकारी, क्या-कैसे, computer से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करतें है| 

0 comments: