May 23, 2016

मेरे प्रिय नेता महात्मा गांधी [mahatma gandhi]

loading...
मेरे प्रिय नेता 

भूमिका- नेता वो, जो अपने अनुयायिओं का पथ-प्रदर्शक और पथ-प्रवर्तक हो | जो स्वयं आदर्श बन प्रेरणा का अश्रेय्स्रोत हो | मेरे प्रिय नेता महात्मा गांधी में ए सभी विशेषताएँ समाहित हैं |
सत्य और आहिंसा के मार्ग पर चलते हुए उन्होंने अपने युग को बदला | इतनी जाग्रति पैदा की कि अंग्रेजी साम्राज्य की वर्षों से जमी नींव हिल गयी | आज भी मुझ जैसे अगणित लोग उन्हें अपना आदर्श मानकर प्रेरणा प्रहण करते हैं |

विस्तार-

जन्म तथा शिक्षामहात्मागांधी का जन्म 2 अक्तूबर, 1869 को काठियावाड़ के पोरबंदर नामक स्थान में हुआ था | उनके पिता श्री करमचंद गांधी पोरबंदर रियासत के दीवान थे | माता पुतली बाई अत्यंत भली और धर्म-परायण महिला थीं |
महात्मा गांधी का पूरा नाम है- मोहनदास करमचंद गांधी | पोरबंदर में प्राम्भिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद वे 1887 में वकालत की शिक्षा प्राप्त करने के लिए इंग्लैंड चले गए |

जीवन के प्रमुख पड़ाव- विदेश से भारत लौटने पर उन्होंने वकालत प्रारंभ की | इसी सिलसिले में उन्होंने दक्षिण अफ्रीका जाना पड़ा | वहाँ अंग्रेजों की रंग-भेदनितिका उन्हें निजी अनुभव हुआ | यह अनुभव इतना कड़वा था, की इसने गांधी जी की दिशा ही बदल दी | वहाँ उन्होंने अपने भारतीय भाइयों सहयोग से आंदोलन छेड़ दिया | अंततः वहाँ की अंग्रेजी सर्कार को उनकी कुछ बातें  स्वीकार करनी पड़ी |
दक्षिण अफ्रीका से उनके सत्याग्रह आंदोलन की गूँज पूरे विश्व में फ़ैल गयी | वे भारत लौटे और यहाँ भी अंग्रेजी शासन के विरुद्ध  असहयोग आंदोलन का नेतृत्व किया | यहाँ नेता का वह गुण अह गुण सामने आया, जिसने लाखों-करोड़ों के दिलों में उन्हें जगह दी, सर्वस्व कुर्बान करने का जज़्बा दिया | वह गुना था- जो करने को कहा, उसे पहले स्वयं किया | जेलों में रहें, लाठी-डंडे खाए, उचित समय पर सही निर्णय लेकर उसपर दृढता से चले |
1921 में ‘असहयोग आंदोलन’ शुरू किया | 1930 में ‘नमक कानून’ का विरोध करने के  लिए दांडी मार्च किया | 1942 में पुरे जोर-शोर से ‘भारत-छोड़ो आंदोलन’ का मुख मोड़ा | उनकी पुकार पर विद्यार्थीयों ने पढाई और लोगों ने सरकारी नौकरियाँ छोड़ीं और आंदोलन में कूद पड़े |
 चल पड़े जिधर दो डग मग में
चल पड़े कोटि पग उसी ओर |
अंततः 15 अगस्त, 1947 को अंग्रेजों को भारत छोड़कर जाना पड़ा | गांधी जी की चिर-अभिलाषा पूर्ण हुई, किन्तु विभाजन के ग्रहण ने प्रसन्नता को ग्रस लिया था |
महात्मा गांधी एक राजनेता ही नहीं , समाज सुधारक भी थे | आदर्श नेता के भाँती उन्होंने देश और समाज में व्याप्त हर बुराई को दूर करने का प्रयत्न किया | अछुतोद्धार, नारी-शिक्षा और सांप्रदायिक एकता के लिए वे आजीवन संघर्ष  करते रहे | ‘साध्य’ के साथ  ‘साधन’ की पवित्रता पर उन्होंने विशेष बल दिया | उनकी यह विशेषता उन्हें महान लोगों की कोटि में ले जाती है |
#सम्बंधित लेख : महात्मा गाँधी 



उपसंहार- मेरे प्रिय नेता के कार्य उन्हें सच्चे अर्थों  में ‘महात्मा’ कहे जाने के योग्य बनाते हैं | भारतवासियों  ने भी ‘बापू’ कहकर अपना निश्छल स्नेह दिया | ‘राष्ट्रिपिता’ का गौरवशाली पद देकर उन्हें सम्मानित किया | 30 जनवरी, 1948 को एक दिग्भ्रमित व्यक्ति की गोली से उनका देहांत हुआ, किंतु वे हम सब भारतीयों के दिल में जीवित हैं | पूरा विश्व आज भी शांति और सौहार्द्र की स्थापना के लिए उनके सिधान्तोंसे प्रेरणा लेता है |

   


|Download pdf|
मेरे प्रिय नेता [mahatma gandhi] pdf file
loading...

SHARE THIS

1 comment: