Apr 19, 2016

ममता कालिया [mamta kaliya]

loading...
 जीवन परिचय


जन्म परिचय:- ममता कालिया का सन् 1940 में मथुरा उत्तर प्रदेश में हुआ | उनकी शिक्षा के कई प्रभाव रहे जैसे इंदौर, नागपुर, पुणे, मुंबई आदि | दिल्ली विश्वविधालय से उन्होंने अंग्रेजी विषय में एम.ए किया | एम.ए. करने के बाद उन्होंने सन् 1963-1965 तक दौलत राम कालेज, दिल्ली विश्वविद्यालय में अंग्रेजी की प्राध्यापिका रही | सन् 1996 से 1970 तक ममता जी एस.एन.डी.टी महिला विश्वविद्यालय, मुंबई में आध्यापन कार्य किया, फिर 1973 से 2001 तक महिला सेवा सदन डिग्री कलेज, इलाहाबाद में प्रधानाचर्या रहीं | सन् 2003 तक भारतीय भाषा कलकत्ता की निर्देशक रही | वर्तामान में नई दिल्ली में रहकर स्वतंत्र लेखन क्र रही ही हैं |

प्रमुख रचनाएँ:- उनकी प्रकाशित कृतियाँ  है बेघर, एक पत्नी के नोट्स, नरक दर नरक, लाडकियाँ, प्रेम कहानी, दौर आदि (उपन्यास) हैं और 12 कहानी संग्रह और प्रकाशित हैं, जो ‘सम्पूर्ण कहानियाँ ’ नाम से दो खंडो में प्रकाशित है | फ़िलहाल उनके दो संग्रह और प्रकाशित हुए हैं, जैसे थियेटर रोड के कोवे, पच्चीस साल की लड़की |

प्रमुख पुरुस्कार:- कथा सहित्य में उल्लेखनीय योगदान के लिए उत्तर प्रदेस के हिन्दी संसथान से ‘सहित्य भूषण’ 2004 में और वही से ‘कहानी सम्मान ’ 1989 में प्राप्त हुआ | उनके समग्र सहित्य पर अभिनव भारती  कलकत्ता में रचना पुरुस्कार भी दिया | इसके अतिरिक उन्हें सरवती प्रेस तथा साप्ताहिक हिन्दुस्थान का ‘श्रेष्ट कहानी पुरुस्कार’ भी प्राप्त है |

भाषा शैली:- ममता कालिया शब्द  की पारखी है | उनका भाषा ज्ञान अत्यंत उच्चकोटि का है | साधारण शब्दों के प्रयोग से भी वह उनमें जादुई  प्रभाव उत्पन्न कर देती हैं | विषये के अनुरूप सहज भावाभिव्यक्त उनकी खासियत है | व्यंगय की सटीकता तथा सजीवता से भाषा में एक अनोखा प्रभाव उत्पन्न हो जाता है | अभिव्यक्ति की सरलता एवं सुभोध उसे विशेष रूप से मर्मस्पर्शी बना देती है |           


loading...

SHARE THIS