Apr 21, 2016

मलिक मुहम्मद जायेसी [Malik Muhammad Jayasi]

जीवन परिचय


जन्म परिचय:- मालिक मुहम्मद का जन्म 1492 में हुआ | मलिक जी अमेठी (उत्तर प्रदेश) के निकट जयास के रहने वाले थे | इसी कारण वे जायसी कहलाए | वे उस समाय के सिद्ध और माने हुए फ़क़ीर माने जाते थे | उन्होंने शेख बुरहान और सैयद अशरफ को अपने गुरुओ के रूप में उल्लेख किआ है |

साहित्यक विशषताएं:- जायसी सूफी प्रेममार्गी शाखा के सबसे श्रेष्ठ कवी माने जाते हैं तथा उनका ‘पदमावत’ प्रेमकथात्याक परम्परा का सर्वश्रेष्ट पबंध काव्य है | भारतीय लोककथा पर आधारित ‘पदमावत’ में सिंहल देश की राज कुमारी पदमावती  तथा चित्तोड़ के राजा रत्नसेन की प्रेम कथा है | जायसी ने इसमें लौकिक कथा का वर्णन इस ढंग से किआ है की आलोकिक एंव परोक्षा सत्ता का आभास होने लगता है | इस काव्य वेर्नन में में रहस्य का गहरा पूट भी मिलता है | काव्य में प्रेम का लोकधर्मी स्वरुप मानवाना के लिए प्रेनादायी है |

भाषा शैली :- फार्शी  की मसनवी शैली में रचित इस प्रबंध काव्य की कथा अध्यायो में बाँटी हुई नही है, बराबर चलती रहती है | जगह-जगह पर शीर्षक के रूप में घटनाओ तथा प्रसंगो का उल्लेख अवश्य हैं | जायसी ने इस काव्य-रचना के लिए दोहा-चौपाई की अनूठी शैली अपने है | उनकी भाषा ठेठ अवधि है और काव्य-शैली अत्यंत प्रोढ़ एवं गंभीर | जायसी को काव्य-रचना आधार का आधार लोकजीवन का व्यापक अनुभव है |  उनके द्वारा प्रयुक्त रूपक, उपमा, मुहावरे, लोक्तिया यहाँ तक की पूरी काव्य-रचना पर भी लोक संस्कृति का गहरा प्रभाव है जो उनकी  रचनाओं  को न्य अर्थ एंव सोंदर्य प्रदान करता है |


प्रमुख रचनाए:- पदमावत, अखरावट तथा आखिरी कलाम जायसी की प्रमुख काव्य-कृतियाँ हैं. जिसमे पदमावत उनकी लोक प्रसिध्दि का प्रमुख आधार है |            

SHARE THIS

Author:

हेल्लो दोस्तों मैं हारून, इस ब्लॉग Hindiarticles.com का founder(Owner) हूँ. आप सभी के सहयोग से हमारा यह ब्लॉग, हिन्दी और हिंगलिश भाषा में blogging, digital marketing, internet की जानकारी, क्या-कैसे, computer से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करतें है|