Apr 21, 2016

घननांद [ghananand poet]


जीवन परिचय

जन्म:- कवि घनानंद का जन्म सन् 1673 में हुआ | रीतिकाल के रीतिमुक्त अथवा स्वच्छंद काव्यधारा के प्रतिनिधि कवि घनानंद दिल्ली के बादशाह मुहम्मद शाह के मीर मुंशी थे | कहते है की सुजान नमक एक स्त्री से उनका आटूट प्रेम था | अपने प्रेम के कारन घनानंद बादशाह के दरबार में वे बे-अकबरी कर  बैठे, जिससे नाराज होकर बादसाह ने उनको दरबार से निकल दिया और साथ ही घनानंद को सुजान की बेवफाई ने दुःखी और निराश किया | वे वृदावंन चले गए और निंबार्क संप्रदाय में दिक्षीत होकर भक्त के रूप में जीवन निर्वाह करने लगे लेकिन सुजान को भुला न पाए तथा अपनी रचनाओ में सुजान के नाम का प्रतीकात्मक प्रयोग करते हुए नई-नई काव्य-रचना करते रहे|

सहितियक विशेषताएँ:-घनानंद मूलतः प्रेम की पीड़ा के कवि है | विरह वरण में उनका मन आधिक रमा है | उनकी काव्य रचनाओ में प्रेम का आत्यन्त निर्मल, गंभीर, आवोग्मय तथा व्याकुल कर देने वाला उदात्त रूप व्यक्त हुआ है, इसी कारण घनानंद के साक्षात रस्मुर्ती कहा गया हैं |

          घनानंद की काव्य रचनाओ में भाव की जैसे गहराइ है, वैसे ही कला की अत्यधिक बारीकी भी | उसे कवितायों में लाक्षनिकता, वक्रोक्ति, वागविदग्धता के साथ-साथ अलंकारो का सुन्दर प्रयोग भी मिलता है | उनकी काव्य कला में सहजता सरलता के साथ वचन-वक्रता का अनूठा मेल है |

भाषा शैली:- घनानंद की भाषा परीषकृत तथा सहितियक ब्रजभाषा है | उसमे मधुरता और कोमलता का चरम विकास दिखाई देती है | भाषा की व्यंजकता बढ़ाने में वे बहुत कुशल थे | वस्तुतः वे ब्रजभाषा  में प्रवीन ही नही रचनात्मक काव्य-भाषा के प्रणेता भी थे |


प्रमुख रचनाएँ:- घनानंद की रचनाओ में विरह लीला, सुजान सागर, क्रिपाकंड निबंध, रसकेलि वल्ली आदि प्रमुख हैं |                 

SHARE THIS

Author:

हेल्लो दोस्तों मैं हारून, इस ब्लॉग Hindiarticles.com का founder(Owner) हूँ. आप सभी के सहयोग से हमारा यह ब्लॉग, हिन्दी और हिंगलिश भाषा में blogging, digital marketing, internet की जानकारी, क्या-कैसे, computer से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करतें है|