Apr 23, 2016

पंडित चंद्रधर शर्मा गुलेरी [chandradhar sharma guleri]

loading...
जीवन परिचय


जन्म परिचय:- पंडित चंद्रधर शर्मा गुलेरी का जन्म सन्1883 में पुराणी बस्ती, जयपुर में हुआ | गुलेरी जी कई भाषा जानते थे | वे संस्कृत पंडित तो थे ही है पाली, संस्कृत, प्राकृत, अपभ्रंस, अवधि, ब्रज, मराठी, राजेस्थानी, गुजरती, बंगाली, पंजाबी, के साथ अंग्रेजी, फ्रेंच तथा लैटिन भाषाओ में उनकी अच्छी पकड़ थी | प्राचीन इतिहास तथा पुरातत्व उनका प्रिय विषये था | उनकी अत्यांत गहरी रूचि भाषा विज्ञानं में थी |   

पद प्रतिष्ठा:- गुलेरी जी की सृजनशीलता के मुख्या चार पड़ाव है-1.समालोचक (1903-06 ई.), 2. मर्यादा (1911-12 ई.), 3.प्रतिभा (1918-20) और 4. नागरी प्रचारिणी पत्रिका (1920-22) | इस सब पत्रिकाओ में शर्मा जी का रचनाकार वक्तित्व बहुविध रूप से उभर कर सामने आया | उन्होंने उत्क्रिष्ट निबंधो के अलावा तीन कहानिया (बुद्धू का काँटा, सुखमय जीवन उसने कहा था ) भी हिन्दी जगत को दी | ‘उसने कहता था ’ कहानी तो गुलेरी जी का सफल पर्याय ही बन चुकी हैं |

प्रमुख परस्कार:- गुलेरी जी की विद्वता का ही प्रमाण तथा प्रभाव था की उन्होंने सन् 1904 से 1922 तक कई महत्वपूर्ण संस्थानों में प्राध्यापन का कार्य किया, ‘इतिहास दिवाकर ’ की उपाधि से सम्मानित हुए तथा पं. मदन मोहन मालवीय के आधिक उपहार पर 11 फरवरी 1922 ई. को वे हिन्दू विश्वविधालय कशी के प्राच्य विभाग के प्राचार्य बने |


भाषा शैली:- इनकी भाषा शैली सरल और सुबोल बोलचाल की होते हुए भी बाड़े गंभीर ढंग से विषय प्रवर्तन करने वाले है |    
loading...

SHARE THIS